ईमानदारी की मिसाल : सड़क पर मिले दो लाख रुपए लौटाए, एलआईसी कर्मी के बैग से गिरी थी रकम

 21 Jul 2021 03:18 PM

जबलपुर। नया मोहल्ला निवासी परवेज खान ने एलआईसी कर्मी के ढाई लाख रुपए लौटाकर ईमानदारी की मिसाल पेश की है। दरअसल, मंगलवार को रामेश्वर कॉलोनी निवासी नवीन कुमार बैंक से पैसे निकाल कर घर लौट रहे थे कि रास्ते से उनके ढाई लाख रुपए गायब हो गए। लोन का पैसा गिर जाने से उनका बुरा हाल हो गया था, लेकिन तभी उन्हें थाने से फोन आया। (परवेज बाएं से चौथा)

थाने से फोन आया, तो यकीन नहीं हुआ

अपने पैसे गुम होने की शिकायत नवीन कुमार ने थाने में की थी और उदास मन से घर चले गए थे। वह घर में थे, तभी थाने से फोन पहुंचा कि आपके दो लाख रुपए मिल गए हैं। गायब पैसे की उम्मीद छोड़ चुके पीड़ित को यकीन नहीं हो रहा था कि उनके पैसे मिल चुके हैं। उन्हें बताया गया कि 18 वर्षीय परवेज खान की ईमानदारी की वजह से ऐसा हुआ है।

सड़क पर पड़ी थी नोटों की गड्डी

टीआई प्रफुल्ल श्रीवास्तव ने बताया कि पैसा लौटाने परवेज अपने साथी शेखू के साथ पहुंचा था। परवेज ने बताया कि सोमवार को चाय लेकर लौट रहा था तो देखा कि भीड़ लगी है। एक रिक्शे वाले ने रोड पर दो लाख की गड्‌डी उठाई और तीन-चार लोग वहां उसे घेरे हुए खड़े थे। उसने रिक्शा वाले से पैसे ले लिए। फिर उसे पहचान के शेखू भाई की दुकान में रखवा दिया। दो लाख रुपए देखकर लगा कि पक्का किसी जरूरत के लिए निकाले होंगे।

ये भी पढ़ें : 15 साल का शातिर ने लोगों के न्यूड वीडियो बनाए, डाटा हैक कर कई को ब्लैकमेल किया

थाने पहुंचाए पैसे

शेखू भाई को मीडिया से पता चला कि किसी शख्स के पैसे गिर गए हैं, ये वही हो सकता है। इसके बाद परवेज और शेखू पैसे लेकर थाने पहुंचे और पैसे लौटाए। वहां नवीन कुमार आए तो उनके हाथों में पैसे लौटा दिए। परवेज ने बताया कि उसे 2 लाख रुपए मिले, 50 हजार किसी ओर के हाथ लग गए होंगे। वहीं नवीन कुमार ने परवेज की ईमानदारी के लिए ईनाम के तौर पर कुछ पैसे दिए।

ये थी घटना

रामेश्वर कॉलोनी कोतवाली निवासी नवीन कुमार जैन एलआईसी में एजेंट हैं। उनका मकान जर्जर हो चुका है। मरम्मत के लिए उन्होंने पांच लाख रुपए की हाउसिंग लोन लिया था। सोमवार को मढ़ाताल स्थित इंडियन ओवरसीज बैंक से पांच लाख रुपए निकाले। एक बैग में रखकर घर को रवाना हुए। 20 मिनट बाद वे लटकारी के पड़ाव के पास सब्जी लेने रुके। तभी बैग से ढाई लाख रुपए गिर गए। नवीन के मुताबिक उन्होंने तो उम्मीद छोड़ दी थी, लेकिन परवेज की ईमानदारी ने दिल जीत लिया।

जबलपुर की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...