जबलपुर ऑर्डिनेंस डिपो का पूर्व आर्मोरर नक्सलियों को पहुंचाता था एके-47, एनआईए ने किया खुलासा

 04 Jun 2021 10:16 AM

पीयूष सिंह राजपूत/जबलपुर. जबलपुर सेंट्रल ऑर्डिनेंस डिपो (COD) से चोरी गई 70 एके-47 राइफल के मामले में एनआईए ने बड़ा खुलासा किया है। एनआईए के मुताबिक इस तस्करी में जबलपुर सीओडी का पूर्व आर्मोरर पुरुषोत्तम लाल रजक असेंब्लर का काम करता था। एनआईए ने बुधवार को चार्जशीट दाखिल करने के बाद प्रेस रिलीज जारी करते हुए पूरा घटनाक्रम बताया है।

ऐसे नक्सलियों तक पहुंची एके-47

एनआईए प्रेस रिलीज के मुताबिक 70 रिजेक्ट की गई राइफल्स के चोरी के मामले में राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी ने चार्जशीट दाखिल कर दी है। बताया गया है कि एके-47 राइफल को पार्ट्स के रूप में चोरी करके बाद में असेम्बल किया गया था। इसके बाद इन राइफलों को मुंगेर (बिहार) में बेचा गया था, जहां से ये नक्सलियों तक पहुंचीं। इस मामले में हथियारों की तस्करी करने वाले 14वें आरोपी राजीव कुमार सिंह उर्फ चुन्नू सिंह निवासी अटरी, बिहार के विरुद्ध एनआईए ने पटना के विशेष कोर्ट में आइपीसी की धारा 120 (बी), 380, 414, आर्म्स एक्ट 25 (ए), 25 (1 ए), 25 (1 ए ए), 25 (1 ए ए ए), 26 और यूएपी की धारा 39 के तहत चार्जशीट दाखिल कर दी है।

ये भी पढ़ें : अनलॉक में नए नियम के साथ छूट : शहर में दाएं-बाएं पद्धति के साथ खोले जाएंगे बाजार

ये है पूरा मामला

राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (एनआईए) ने पटना स्थित स्पेशल जज गुरविंदर सिंह मल्होत्रा की अदालत में 22 एके-47 राइफल की बरामदगी मामले में 14 आरोपियों के खिलाफ चार्ज शीट दाखिल की है। जबलपुर सेंट्रल ऑर्डिनेंस डिपो के स्टोर से 70 के लगभग रिजेक्टेड एके-47 रायफल पार्ट्स के रूप में चोरी किए गए थे। पूर्व आर्मोरर जबलपुर पंचशील नगर निवासी पुरुषोत्तम लाल रजक स्टोर कीपर से एके-47 के पार्ट्स लेकर उन्हें असेम्बल करता और बिहार के मुंगेर तक पहुंचाता था। पुरुषोत्तम रीवा का रहने वाला है और 2008 में सीओडी से रिटायर हो गया था।

बिहार पुलिस ने पकड़ी थी एक-47

बता दें कि मुंगेर (बिहार) जिले के जमालपुर थाने की पुलिस ने 29 जुलाई 2018 को जुबली बेल इलाके में मुफस्सिल थाना अंतर्गत मिर्जापुर बरदह गांव निवासी मोहम्मद इमरान आलम और शमशेर को भारी मात्रा में असला-बारूद के साथ पकड़ा था। आरोपियों के पास से 5 एके-47 राइफल, 30 मैगजीन, एके-47 राइफल का 7 पिस्टन, 7 स्प्रिंग, 7 बॉडी कावर, 7 रीकॉइल स्प्रिंग, 7 ब्रिज ब्लॉक और अन्य पुर्जे जब्त हुए थे। यह हथियार उसे स्टेशन पर पुरुषोत्तम लाल रजक और उसकी पत्नी चंद्रवती ने दिए। 

फिर जबलपुर पुलिस और क्राइम ब्रांच ने की गिरफ्तारी

मुंगेर में हुई गिरफ्तारी के आधार पर जबलपुर की गोरखपुर और क्राइम ब्रांच पुलिस ने चार अगस्त को पुरुषोत्तम, पत्नी चंद्रवती, बेटा शैलेंद्र और अधारताल निवासी सुरेश ठाकुर को दबोचा था। गोरखपुर में अपराध क्रमांक 588/18 दर्ज है। पुरुषोत्तम से बड़ी मात्रा में एके-47 के पार्ट्स जब्त हुए थे। बाद में इस मामले में मुंगेर के 9 आरोपी और बनाए गए थे। 20 दिसंबर 2018 को 173 (8) में पुलिस ने न्यायालय में चालान पेश कर दिया। अभी नौ आरोपी जबलपुर नहीं लाए जा सके। इस मामले में एनआईए की जांच अब भी जारी है।

जबलपुर की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...