रिसर्च में खुलासा: बच्चों को मनाने के लिए मोबाइल देने की आदत उन्हें बना रही है गुस्सैल; फोन से रखें दूर

 13 Apr 2021 03:51 PM

नई दिल्ली। आज कल हर घर में हर व्यक्ति के पास फोन है। लोगों ने फोन को ही अपना सच्चा साथी बना लिया है। वह दिनभर इसी में कुछ देखते-सुनते रहते हैं। छोटे बच्चे भी फोन के प्रति काफी आकर्षित होते हैं। आजकल के बच्चे स्मार्टफोन वह सबकुछ जानते हैं जो शायद कुछ बड़े नहीं। लोग अपने बच्चों को मनाने और शांत रखने के लिए उन्हें स्मार्टफोन पकड़ा देते हैं तो अलर्ट होने की जरूरत है। स्मार्टफोन और 2 से 3 साल के बच्चों के बिहेवियर पर हुई अमेरिकी वैज्ञानिकों की रिसर्च चौंकाने वाली है। शोधकर्ताओं का कहना है, बच्चों को फोन देने की आदत उन्हें गुस्सैल बना सकती है।

ऐसे हुई रिसर्च
वैज्ञानिकों का कहना है, स्मार्टफोन पर कार्टून देखने 2 से 3 साल के बच्चों के बिहेवियर पर नजर रखी गई। पेरेंट्स से भी यह पूछा गया कि उनके बच्चे स्मार्टफोन का कितना इस्तेमाल करते हैं। टीवी, वीडियो गेम्स, टैबलेट्स और स्मार्टफोन में से किसका कितना इस्तेमाल करते हैं।

रिसर्च के परिणाम
शोधकर्ताओं के मुताबिक, जिन बच्चों का गुस्सा रोकने के लिए पेरेंट्स ने गैजेट्स दिए गए थे, जब उनसे गैजेट वापस लिए गए तो गुस्सा पहले के मुकाबले और ज्यादा बढ़ गया। रिसर्च कहती है, लम्बे समय तक बच्चों में ऐसा बिहेवियर दिखने पर स्थिति और बिगड़ सकती है।

क्या है वैज्ञानिकों की सलाह
विशेषज्ञों का कहना है कि बच्चों को गैजेट्स दूर ही रखने की रणनीति बनाएं, ताकि किसी पब्लिक प्लेस पर बच्चे में गुस्सैल बिहेवियर न दिखे। ब्रिघम यंग यूनिवर्सिटी की शोधकर्ता साराह कोएन कहती हैं, बच्चों के इमोशंस को कंट्रोल करने के लिए फोन पर ऑडियो और वीडियो दिखाने से बचें।

स्मार्टफोन कितना इस्तेमाल करने दें
रॉयल कॉलेज ऑफ पीडियाट्रिक्स एंड चाइल्ड हेल्थ की गाइडलाइन कहती है, 18 महीने से कम उम्र के बच्चे को गैजेट्स देने से बचें। 2 से 5 साल के बच्चे को एक दिन में एक घंटे से ज्यादा गैजेट्स का इस्तेमाल न करने दें। बच्चे क्या किस किस्म की चीजें देख रहे हैं पेरेंट्स को इसका ध्यान रखना चाहिए। उन्हें खाना खाते समय और सफर करते समय गैजेट्स से दूर ही रखें।