World Ocean Day 2021: जीवन के लिए जरूरी हैं महासागर, जानें क्या है इतिहास और महत्व

 08 Jun 2021 01:17 PM

8 जून को विश्व महासागर दिवस यानी world Ocean day मनाया जाता है। हम मनुष्य केवल एक ही ग्रह के बारे में जानते हैं, जिसमें हम निवास कर सकते हैं और यह 70 प्रतिशत पानी से ढका हुआ है। यह जीवन को बनाए रखने के लिए सबसे आवश्यक तत्वों में से एक है। संयुक्त राष्ट्र (यूएन) ने ऐसे विशाल निकायों के महत्व और पारिस्थितिकी तंत्र में उनके योगदान को समझने के लिए 8 जून को विश्व महासागर दिवस के रूप में घोषित किया। इसका उद्देश्य महासागरीय निकायों पर मानवीय गतिविधियों के परिणामों और प्रभावों के बारे में जनता को जागरूक करना है। हम आपको महासागरों से जुड़े कुछ ऐसे तथ्यों के बारे में बताएंगे जिनका मानव जिंदगी पर बड़ा असर पड़ता है।

 

क्यों मनाते हैं महसागर दिवस

महासागरों में पेड़ पौधों, कई प्रजाति के जानवर और अहम आर्गेनिज्म का भंडार है, वैज्ञानिकों की रिसर्च के मुताबिक ये धरती के तापमान को बनाए रखने में अहम भूमिका निभाते हैं। महासागरीय धाराएं हमें 50 प्रतिशत ऑक्सीजन प्रदान करके ग्रह को गर्म रखता है। महासागर के खारे पानी में पौधों, जानवरों और अन्य विशाल जीव भी रहते हैं। समुद्र से हमें अलग-अलग तरह की जीवन रक्षक और कैंसर रोधी दवाएं मिलती हैं। महासागरों की जीवन में महत्ता को देखते हुए युनाइटेड नेशंस और इंटरनेशनल लॉ 8 जून को विश्व महासागर दिवस मनाता है। महासगर दिवस मनाने का मकसद ये है कि हम जान सकें कि महासागर हमारे लिए कितने अहम हैं। इसिलिए हमारी जिम्मेदारी बनती है कि हम महासागर के अस्तित्व को बनाए रखने और इनके सरंक्षण में अपने योगदान दें।

 

2021 का थीम

हर वर्ष की भांति इस वर्ष 2021 का विषय 'समुद्र: जीवन व आजीविका' चुना गया है। महासागर में मौजूद लाइफ और लाइवलीहुड से जुड़े तथ्यों के बारे में आम जन तक जानकारी पहुंचाना। लोगों में ये जागरूकता पैदा करना कि, ये महासगर ही हैं जो पूरी दुनिया में प्रोटीन उपलब्ध कराने का सबसे बड़ा जरिया है। महासागर इकॉनोमी मजबूत करने और रोजगार देने में भी अहम रोल अदा करते हैं। अनुमान के मुताबिक दुनिया के करीब  40 मिलियन लोग 2030 तक महासागर आधारित इंडस्ट्री से जुड़े होंगे।

 

 

वर्चुअली मनाया जाएगा महासागर दिवस

पिछले साल की तरह कोविड 19 महामारी के चलते इस साल भी विश्व पर्यावरण दिवस वर्चुअली ही मनाया जाएगा। महासागर दिवस मनाने की बात रियो डी जेनेरियो के अर्थ समिट में सन 1992 में पहली बार सामने आई थी।