कोरोना के बाद 30% बच्चों ने छोड़ा स्कूल

 22 Jul 2021 11:32 PM

नई दिल्ली देश में कोरोना महामारी की दूसरी लहर चल रही है। साथ ही तीसरी लहर के अगले तीन महीने में आने की संभावना भी जताई जा रही है। कोविड के खतरे के चलते पिछले साल से ही देश में प्राइवेट और सरकारी स्कूल बंद हैं लेकिन अब छात्रों के स्कूल छोड़ने को लेकर एक चिंता पैदा करने वाला आंकड़ा सामने आ रहा है। आॅल इंडिया पैरेंट्स एसोसिएशन की ओर से किए गए अध्ययन में सामने आया है कि देश के प्राइवेट स्कूलों में पढ़ने वाले करीब 15 फीसदी छात्रों ने स्कूल छोड़ दिया है। जबकि सरकारी की बात करें तो ऐसे बच्चों की संख्या 30 फीसदी से ज्यादा है जिन्होंने स्कूलों से नाम कटा लिया है या स्कूल छोड़ दिया है। आईपा के अध्यक्ष एडवोकेट अशोक अग्रवाल ने बताया कि स्कूलों से बढ़े इस ड्रापआउट के बाद बाल मजदूरी की समस्या भी सामने आ रही है।

अब गांव पहुंचे बच्चों में बाल मजदूरी का खतरा बढ़ा

कोरोना के बाद बड़ी संख्या में शहर छोड़कर गांव गए बच्चों और शहरों में स्कूल छोड़कर घरों में बैठे बच्चों के बाल श्रम में लगने की आशंका है। अग्रवाल कहते हैं कि अगर डाटा निकाला जाए तो बाल मजदूरों की संख्या दोगुनी होने की भी सम्भावना है जो कि कोरोना से भी ज्यादा खतरनाक है। इन बच्चों के कभी स्कूलों में न लौटने का खतरा भी बढ़ गया है।