बीजापुर: अगवा सीआरपीएफ जवान को नक्सलियों ने रिहा किया, परिवार ने कहा- आज हमारे लिए खुशियों भरा दिन

 08 Apr 2021 10:54 PM

रायपुर। बीजापुर में अगवा किए गए सीआरपीएफ के जवान राकेश्वर सिंह को नक्सलियों ने रिहा कर दिया है। जवान रिहा होने के बाद तर्रेम कैंप पहुंच गया है। वयोवृद्ध गांधीवादी कार्यकर्ता पद्मश्री धर्मपाल सैनी के हाथों में नक्सलियों ने जवान को सौंपा है। बताया जा रहा है कि 20 गांवों के ग्रामीणों के समक्ष नक्सलियों ने जवान को छोड़ा है। उसे लेने के लिए हेलीकॉप्टर रवाना कर दिया गया है। राकेश्वर की पत्नी मीनू ने कहा कि आज मेरी जिंदगी का सबसे खुशी भरा दिन है। मुझे उनके लौटने का पूरा भरोसा था। राकेश्वर की मां कुंती देवी ने कहा कि हम बहुत ज्यादा खुश हैं। जो हमारे बेटे को छोड़ रहे हैं। भगवान का धन्यवाद करती हूं। 

इससे पहले गुरुवार सुबह नक्सलियों ने टेकलगुड़ा गांव के नजदीक जंगल में जनअदालत लगाई थी। बीजापुर के कुछ पत्रकार मौके पर गए थे। अभी यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि किन शर्तों पर राकेश्वर सिंह को रिहा किया है। राकेश्वर सिंह को 3 अप्रैल को  बीजापुर हमले के दौरान नक्सलियों ने बंधक बना लिया था। 

राकेश्वर इस समय तर्रेम में 168वीं बटालियन के कैंप में तैनात है। राकेश्वर को कैसे और किसके साथ रिहा किया गया, इन सभी बातों का अभी खुलासा नहीं हो पाया है। नक्सलियों के हमले में 23 जवान शहीद हुए थे। नक्सलियों ने भी अपने 5 साथी मारे जाने की बात स्वीकार की थी। नक्सलियों ने सीआरपीएफ के कोबरा कमांडो राकेश्वर का अपहरण कर लिया था।

इससे पहले नक्सलियों ने एक पत्र और राकेश्वर सिंह का फोटो जारी किया था। पत्र में उन्होंने सरकार से बातचीत के लिए मध्यस्थों के नाम का पैनल तय करने को कहा था। हालांकि नक्सलियों की मांग के बाद सरकार ने मध्यस्थों के नाम जारी किए या नहीं यह स्पष्ट नहीं है। क्योंकि, मध्यस्थों के नाम सार्वजनिक नहीं किए गए थे।