Norovirus से लोगों में दहशत, कोरोना से भी खतरनाक बताया जा रहा ये वायरस

 21 Jul 2021 02:56 PM

नई दिल्ली। COVID-19 महामारी के बीच अब एक और वायरस ने दस्तक दे दी है। इस वायरस का नाम नोरोवायरस है। माना जा रहा है कि यह वायरस कोरोना वायरस से भी ज्यादा खतरनाक है। पिछले हफ्तों में इंग्लैंड में नोरोवायरस के लगभग 154 मामले सामने आए हैं। 19 जुलाई 2021 तक, यूनाइटेड किंगडम में COVID-19 के करीब 39,950 नए मामले मिले हैं। पिछले दिनों से यूके में कोविड-19 से जुड़े प्रतिबंधों में ढील दी गई थी। मगर अब नोरोवायरस के फैलने के बाद पब्लिक हेल्‍थ इंग्‍लैंड (PHE) की तरफ से लोगों को चेतावनी दी गई है।

 

कोरोना से ज्यादा खतरनाक है नोरोवायरस- सीडीसी

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) की तरफ से कहा गया है कि नोरोवायरस कोरोना वायरस की तुलना में कहीं ज्‍यादा खतरनाक है और इसकी वजह से संक्रमण तेजी से फैलता है। जो भी व्‍यक्ति इस वायरस से संक्रमित है उसमें उल्‍टी और डायरिया जैसे लक्षण दिखाई देते हैं।

 

क्या है नोरोवायरस

नोरोवायरस वायरल गैस्ट्रोएंटेराइटिस के प्रमुख कारणों में से एक है जिसे "स्टमक फ्लू" भी कहा जाता है। वायरल गैस्ट्रोएंटेराइटिस एक संक्रमण है जो पेट, बड़ी आंत और छोटी आंत में सूजन का कारण बनता है जिससे अत्यधिक परेशानी होती है। इससे पीड़ित व्यक्ति दूसरों को भी बीमार कर सकता है। क्योंकि यह कम्युनिकेबल डिजीज (संक्रामक बीमारी) यानि एक से दूसरे को फैलने वाली बीमारी की श्रेणी में आता है। नोरोवायरस को ‘वोमेटिंग बग’ के रूप में भी जाना जाता है।

नोरोवायरस के बढ़ते मामलों के साथ, इस बीमारी का प्रभावी ढंग से मुकाबला करने के लिए इसे समझना आवश्यक है। सबसे ज्‍यादा डराने वाली बात है कि इस वायरस के केस नर्सरी और चाइल्‍ड केयर सेंटर्स जैसी उन जगहों पर ज्‍यादा पाए गए हैं जहां पर बच्‍चों की संख्‍या ज्‍यादा होती है।

 

नोरोवायरस के लक्षण

संक्रमण की गंभीरता के आधार पर, लक्षण भिन्न हो सकते हैं।

  • डायरिया, उल्‍टी, सिर चकराना और पेट में तेज दर्द होना सबसे अहम लक्षण हैं।
  • इसके अलावा बुखार, सिरदर्द और बदन दर्द भी कई मरीजों में देखा गया है।
  • वायरस के शरीर में दाखिल होने के अंदर 12 से 48 घंटे में ही संक्रमण फैल जाता है।
  • वायरस से संक्रमित व्‍यक्ति को 2 से 3 हफ्ते तक उल्‍टी होती है।

 

कोरोना की तरह फैलता है यह वायरस
पीएचई ने इसे ‘Winter Vomiting Bug’ नाम दिया है। सीडीसी का कहना है कि नोरोवायरस में कई अरब वायरस हैं। कोई भी व्‍यक्ति अगर इस वायरस से संक्रमित व्‍यक्ति के संपर्क में आता है, संक्रमित खाना खाता है, वायरस से प्रभावित सतह को छूता है या बिना हाथ धोए मुंह में डाल लेता है, उसे इस वायरस से संक्रमित होने का खतरा ज्यादा है। ये वायरस दूसरे वायरस की ही तरह शरीर में दाखिल होकर उसे संक्रमित करता है।

 

नोरोवायरस से बचाव के तरीके

सीडीसी के मुताबिक यह जरूरी है कि कुछ भी छूने के बाद, डायपर बदलने के बाद, बाहर से आने पर और कुछ खाने से पहले हमेशा अपने हाथों को ठीक से धोएं। इसके अलावा जिस तरह से कोविड-19 से बचने के लिए सैनेटाइजर का प्रयोग लोग कर रहे हैं, उसी तरह से इसके लिए भी एल्‍कोहल बेस्‍ड सैनेटाइजर का प्रयोग करना बेहतर रहेगा।