भारत में सबसे बड़ी कोरोना वैक्सीनेशन ड्राइव शुरू: भारत बायोटेक का ऐलान- वैक्सीन के दुष्परिणाम हुए तो मिलेगा मुआवजा

 16 Jan 2021 05:25 PM

स्वाइप कर देखें तस्वीरें...

नई दिल्ली। देशभर में कोरोना के खिलाफ आज से टीकाकरण अभियान का आगाज हो गया है। सुबह साढ़े 10 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इस महाभियान की शुरुआत की। उन्होंने कहा कि वैक्सीन बहुत ही कम समय में आ गई है। दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान शुरू होने जा रहा है। इसके लिए मैं सभी को बधाई देता हूं। सभी 28 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों (यूटी) की 3006 साइट्स पर एकसाथ यह कार्यक्रम चलाया जाएगा। पहले फेज में हेल्थवर्कर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स का टीकाकरण हुआ। पहले दिन हर साइट पर कम से कम 100 लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी। राज्यों ने इसके लिए पुख्ता इंतजाम किए हैं। कोरोना वैक्सीन कोवैक्सीन की 55 लाख खुराक की आपूर्ति के लिए सरकारी खरीद आदेश प्राप्त करने वाले भारत बायोटेक ने कहा है कि टीकाकरण के बाद किसी भी तरह के गंभीर प्रतिकूल प्रभाव होने पर कंपनी मुआवजा देगी।

 

 

दिल्ली में एक सफाई कर्मचारी को लगा पहला टीका
दिल्ली एम्स में एक सफाई कर्मचारी को कोविड-19 वैक्सीन का पहला टीका लगाया गया। इस मौके पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन भी मौजूद रहे।
 दिल्ली एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने एम्स में कोविड-19 का टीका लगवाया।

मेरा अनुभव बहुत ही अच्छा रहा
दिल्ली एम्स में कोरोना का पहला टीका लगवाने वाले सफाई कर्मचारी मनीष कुमार ने कहा, 'मेरा अनुभव बहुत ही अच्छा रहा है, वैक्सीन लगने से मुझे कोई झिझक नहीं होगी और मैं अपने देश की और सेवा करता रहूंगा। लोगों को घबराने की कोई जरूरत नहीं है। मेरे मन में जो डर था वो भी निकल गया। सबको वैक्सीन लगवानी चाहिए।'

 

 

 

सीएम शिवराज की उपस्थिति में वार्ड बॉय को लगा पहला टीका
मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की उपस्थिति में हमीदिया में वार्ड बॉय संजय यादव को कोरोना का पहला टीका लगाया गया। इसके साथ ही प्रदेश में दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण कार्यक्रम की शुरुआत हो गई है।

 

 

इंदौर में आशा पवार को लगा पहला टीका
मध्यप्रदेश के इंदौर में आशा पवार को कोरोना का पहला टीका लगाया गया है।

 

 

कोरोना के खिलाफ लड़ाई में 'संजीवनी' का काम करेगी वैक्सीन
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा, 'आज मैं बहुत खुश और संतुष्ट हूं। हम पिछले एक साल से प्रधानमंत्री के नेतृत्व में कोविड-19 के खिलाफ लड़ रहे हैं। यह वैक्सीन कोरोना वायरस की लड़ाई में 'संजीवनी' का काम करेगी, जिसने अंतिम चरण में प्रवेश किया है।'

 

 

जम्मू और कश्मीर में शुरू हुआ टीकाकरण
जम्मू और कश्मीर के शेर-ए-कश्मीर इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज में टीकाकरण अभियान शुरू हो गया है। एक स्वयंसेवक ने कहा, 'मैं खुश हूं। मैंने स्वयंसेवकों को दूसरों को प्रोत्साहित करने के लिए पहला टीका लगवाया है जिससे दूसरों को भी वैक्सीन का लाभ मिल सके।

सीएम और डिप्टी सीएम की मौजूदगी में शुरू हुआ टीकाकरण अभियान 
गुजरात में मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल की मौजूदगी में अहमदाबाद के सिविल अस्पताल में कोविड-19 टीकाकरण अभियान की शुरुआत हुई।

एम्स के पूर्व निदेशक ने लगाई वैक्सीन
ओडिशा में एम्स के पूर्व निदेशक और एसओए विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. अशोक मोहापात्रा ने भुवनेश्वर के एसयूएम अस्पताल में कोविड-19 वैक्सीन लगवाई।

भारत के पास है अनुभव
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा, यह शायद दुनिया में कहीं भी कोविड-19 के खिलाफ सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान है। भारत के पास ऐसी चुनौतियों को संभालने का जबरदस्त अनुभव है। हमने पहले ही पोलियो और चेचक का उन्मूलन किया है।

एक केंद्र पर 100 लोगों को लगेगी वैक्सीन
दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा, 'दिल्ली में आज से वैक्सीनेशन शुरू हुआ है। 81 केंद्रों पर यह वैक्सीनेशन एक साथ शुरू की गई है जिसमें ज्यादातर अस्पताल हैं। एक केंद्र पर 100 लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी। कुल मिलाकर आज 8100 लोगों को वैक्सीन लगाने की योजना है।'

महाराष्ट्र में भाजपा कार्यकर्ताओं ने कोरोना का जलाया पुतला
मुंबई के घाटकोपर इलाके में भाजपा कार्यकर्ताओं ने कोरोना वायरस का पुतला जलाकर जश्न मनाया। कोविड-19 के खिलाफ आज से देशव्यापी टीकाकरण अभियान के पहले चरण की शुरुआत हो गई है।

वैक्सीन के दुष्परिणाम होने पर मुआवजाः भारत बायोटेक
कोरोना वैक्सीन कोवैक्सीन की 55 लाख खुराक की आपूर्ति के लिए सरकारी खरीद आदेश प्राप्त करने वाले भारत बायोटेक ने कहा है कि टीकाकरण के बाद किसी भी तरह के गंभीर प्रतिकूल प्रभाव होने पर कंपनी मुआवजा देगी।

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने टीकाकरण स्थल का किया दौरा
झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने रांची के सदर अस्पताल में कोरोना टीकाकरण स्थल का दौरा किया। उन्होंने इस दौरान कहा कि कई डॉक्टरों, स्वास्थ्य और स्वच्छता कर्मचारियों को आज टीका लगाया गया है। राज्य में कुल 48 टीकाकरण केंद्र हैं।

डॉ हर्षवर्धन ने टीकाकरण स्थल का दौरा किया
केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने शनिवार को दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल में कोरोना टीकाकरण स्थल का दौरा किया।

वैक्सीन लगाने के बाद मुझे अच्छा लग रहा है
लेह में अग्रिम चौकियों पर तैनात भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) के जवानों को कोविड-19 का टीका लगाया गया। एक सैनिक ने कहा, 'आज हमें लद्दाख के सेक्टर अस्पताल में कोरोना वैक्सीन लगाई गई। इसका कोई साइड-इफेक्ट नहीं हुआ और मुझे अच्छा लग रहा है।

पलानीस्वामी की उपस्थिति में स्वास्थ्यकर्मियों को लगा टीका
तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई के राजीव गांधी गवर्नमेंट जनरल हॉस्पिटल में आज मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी की उपस्थिति में स्वास्थ्यकर्मियों को कोविड-19 वैक्सीन लगाई गई।

लोगों से अनुरोध करता हूं वैक्सीन को लेकर न फैलाएं अफवाह
केंद्रीय गृह राज्य जी किशन रेड्डी ने कोविड वैक्सीन की प्रभावकारिता पर संदेह को लेकर कहा, 'मैं लोगों से अनुरोध करता हूं कि ऐसी बातें न करें। अन्य देशों में परीक्षण की गई दवाओं को अच्छा माना जाता है, लेकिन जब हमारे वैज्ञानिक भारत में दवाओं का निर्माण और विकास करते हैं, तो लोग इसे गलत तरीके से देखते हैं। मैं इस तरह की चीजों पर चर्चा न करने का अनुरोध करता हूं। परीक्षण के बाद ही टीकों को मंजूरी दी गई है। मैं यह विश्वास से कहता हूं कि टीके सभी को लाभान्वित करेंगे।'

पंजाब के सीएम ने लिया वैक्सीनेशन का जायजा
पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मोहाली के सिविल अस्पताल में चल रहे वैक्सीनेशन का जायजा लिया।

कोविड मुक्त बनने की राह पर है भारत
केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा, 'जिस तरह से भारत प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के मजबूत नेतृत्व में कोविड के खिलाफ मजबूती से खड़ा है वो हर भारतीय के लिए गर्व की बात है। आज प्रधानमंत्री द्वारा दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान के शुभारंभ के साथ ही भारत एक कोविड मुक्त राष्ट्र बनने की राह पर अग्रसर है।'

 

आज दुनिया मान रही है भारत का लोहा: रविशंकर प्रसाद 
केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने टीकाकरण कार्यक्रम शुरू होने पर कहा, 'भारत ने इस महामारी से जिस प्रकार से मुकाबला किया उसका लोहा आज पूरी दुनिया मान रही है। केंद्र और राज्य सरकारें, स्थानीय निकाय, हर सरकारी संस्थान, सामाजिक संस्थाएं, कैसे एकजुट होकर बेहतर काम कर सकते हैं, ये उदाहरण भी भारत ने दुनिया के सामने रखा है।'

 

 

लद्दाख में आईटीबीपी के 20 जवानों को लगी वैक्सीन

लेह के सेक्टर अस्पताल में कुल 20 आईटीबीपी जवानों को कोरोना की वैक्सीन लगाई गई। इसमें दो महिला अधिकारी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी कात्यायनी शर्मा पांडे और चिकित्सा अधिकारी डॉ. स्केलांग अंगो शामिल हैं।

हमने बनाईं दो स्वदेशी वैक्सीन
लखनऊ में केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, 'हम लोगों के लिए खुशी की बात है कि वैक्सीनेशन का सिलसिला आज से शुरू हो गया है। हमने 2 स्वदेशी वैक्सीन बना ली हैं और 4 वैक्सीन और आने वाली हैं। ये वैक्सीन केवल भारतवासियों को ही नहीं लगाई जाएंगी बल्कि दुनिया के दूसरे देशों को भी जल्द ही निर्यात की जाएंगी।'

उद्धव ठाकरे ने किया टीकाकरण केंद्र का उद्घाटन 
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मुंबई में बीकेसी जंबो कोविड-19 अस्पताल में टीकाकरण केंद्र का उद्घाटन किया और आज टीकाकरण कार्यक्रम का जायजा लिया।

यूपी के सीएम ने टीकाकरण कार्यक्रम का लिया जायजा
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बलरामपुर अस्पताल में चल रहे टीकाकरण कार्यक्रम का जायजा लिया। उन्होंने कहा, 'भारत ने दुनिया की सबसे सफल वैक्सीन बनाई है, आज बलरामपुर अस्पताल में कुल 102 स्वास्थ्यकर्मियों को वैक्सीन लगेगी। अब तक 15 लोगों ने वैक्सीन लगवाई है।'

 

अफवाहों पर न दें ध्यान
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एलएनजेपी अस्पताल में टीकाकरण अभियान का निरीक्षण करने के बाद कहा, दिल्ली के 81 टीकाकरण केंद्रों पर 8,100 लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी। मैं लोगों से अपील करता हूं कि वे अफवाहों पर ध्यान न दें। विशेषज्ञों ने कहा है कि टीके सुरक्षित हैं।

अदार पूनावाला ने लगाई वैक्सीन
सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदार पूनावाला ने अपनी कंपनी द्वारा निर्मित कोविशील्ड वैक्सीन का एक शॉट लिया।

 

 

पीएम ने अपने संबोधन में कहा...

आज वो वैज्ञानिक, वैक्सीन रिसर्च से जुड़े अनेकों लोग विशेष प्रशंसा के हकदार हैं, जो बीते कई महीनों से कोरोना के खिलाफ वैक्सीन बनाने में जुटे थे। आमतौर पर एक वैक्सीन बनाने में बरसों लग जाते हैं। लेकिन इतने कम समय में एक नहीं, दो मेड इन इंडिया वैक्सीन तैयार हुई हैं

मैं ये बात फिर याद दिलाना चाहता हूं कि कोरोना वैक्सीन की 2 डोज लगनी बहुत जरूरी है। पहली और दूसरी डोज के बीच, लगभग एक महीने का अंतराल भी रखा जाएगा। दूसरी डोज़ लगने के 2 हफ्ते बाद ही आपके शरीर में कोरोना के विरुद्ध ज़रूरी शक्ति विकसित हो पाएगी 

इतिहास में इस प्रकार का और इतने बड़े स्तर का टीकाकरण अभियान पहले कभी नहीं चलाया गया है। दुनिया के 100 से भी ज्यादा ऐसे देश हैं जिनकी जनसंख्या 3 करोड़ से कम है। और भारत वैक्सीनेशन के अपने पहले चरण में ही 3 करोड़ लोगों का टीकाकरण कर रहा है

दूसरे चरण में हमें इसको 30 करोड़ की संख्या तक ले जाना है। जो बुजुर्ग हैं, जो गंभीर बीमारी से ग्रस्त हैं, उन्हें इस चरण में टीका लगेगा। आप कल्पना कर सकते हैं, 30 करोड़ की आबादी से ऊपर के दुनिया के सिर्फ तीन ही देश हैं- खुद भारत, चीन और अमेरिका

भारत के वैक्सीन वैज्ञानिक, हमारा मेडिकल सिस्टम, भारत की प्रक्रिया की पूरे विश्व में बहुत विश्वसनीयता है। हमने ये विश्वास अपने ट्रैक रिकॉर्ड से हासिल किया है

कोरोना से हमारी लड़ाई आत्मविश्वास और आत्मनिर्भरता की रही है। इस मुश्किल लड़ाई से लड़ने के लिए हम अपने आत्मविश्वास को कमजोर नहीं पड़ने देंगे, ये प्रण हर भारतीय में दिखा

संकट के उसी समय में, निराशा के उसी वातावरण में, कोई आशा का भी संचार कर रहा था, हमें बचाने के लिए अपने प्राणों को संकट में डाल रहा था। हमारे डॉक्टर, नर्स, पैरामेडिकल स्टाफ, एंबुलेंस ड्राइवर, आशा वर्कर, सफाई कर्मचारी, पुलिस और दूसरे Frontline Workers

भारत ने 24 घंटे सतर्क रहते हुए, हर घटनाक्रम पर नजर रखते हुए, सही समय पर सही फैसले लिए। 30 जनवरी को भारत में कोरोना का पहला मामला मिला, लेकिन इसके दो सप्ताह से भी पहले भारत एक हाई लेवल कमेटी बना चुका था। पिछले साल आज का ही दिन था जब हमने बाकायदा सर्विलांस शुरु कर दिया था

17 जनवरी, 2020 वो तारीख थी, जब भारत ने अपनी पहली एडवायजरी जारी कर दी थी। भारत दुनिया के उन पहले देशों में से था जिसने अपने एयरपोर्ट्स पर यात्रियों की स्क्रीनिंग शुरू कर दी थी

जनता कर्फ्यू, कोरोना के विरुद्ध हमारे समाज के संयम और अनुशासन का भी परीक्षण था, जिसमें हर देशवासी सफल हुआ। जनता कर्फ्यू ने देश को मनोवैज्ञानिक रूप से लॉकडाउन के लिए तैयार किया। हमने ताली-थाली और दीए जलाकर, देश के आत्मविश्वास को ऊंचा रखा

ऐसे समय में जब कुछ देशों ने अपने नागरिकों को चीन में बढ़ते कोरोना के बीच छोड़ दिया था, तब भारत, चीन में फंसे हर भारतीय को वापस लेकर आया। और सिर्फ भारत के ही नहीं, हम कई दूसरे देशों के नागरिकों को भी वहां से वापस निकालकर लाए

मुझे याद है, एक देश में जब भारतीयों को टेस्ट करने के लिए मशीनें कम पड़ रहीं थीं तो भारत ने पूरी लैब भेज दी थी ताकि वहां से भारत आ रहे लोगों को टेस्टिंग की दिक्कत ना हो। हम दूसरों के काम आएं, ये निश्वार्थ भाव हमारे भीतर रहना चाहिए। राष्ट्र सिर्फ मिट्टी, पानी, कंकड़, पत्थर से नहीं बनता। बल्कि राष्ट्र का मतलब होता है हमारे लोग। संकट कितना भी बड़ा क्यों न हो, देश वासियों ने कभी आत्मविश्वास खोया नहीं। जब भारत में कोरेाना पहुंचा तब देश में कोरोना टेस्टिंग की एक ही लैब थी, हमने अपने सामर्थ्य पर विश्वास रखा और आज 2,300 से ज्यादा नेटवर्क हमारे पास है।

भारत ने इस महामारी से जिस प्रकार से मुकाबला किया उसका लोहा आज पूरी दुनिया मान रही है। केंद्र और राज्य सरकारें, स्थानीय निकाय, हर सरकारी संस्थान, सामाजिक संस्थाएं, कैसे एकजुट होकर बेहतर काम कर सकते हैं, ये उदाहरण भी भारत ने दुनिया के सामने रखा

डीआरडीओ, इसरो और फौज से लेकर किसान और श्रमिक तक सभी एक संकल्प के साथ कैसे काम कर सकते हैं ये भारत ने दिखाया है। 2 गज की दूरी और मास्क है जरूरी, पर फोकस करने वालों में भी भारत अग्रणी देशों में रहा। 

कोरोना के काल में हमारे कई साथी ऐसे रहे जो बीमार होकर अस्पताल गए तो लौटे ही नहीं। संकट के उसी समय में, निराशा के उसी वातावरण में, कोई आशा का भी संचार कर रहा था, हमें बचाने के लिए अपने प्राणों को संकट में डाल रहा था। ये लोग थे हमारे डॉक्टर, नर्स, पैरामेडिकल स्टाफ, एंबुलेंस ड्राइवर, आशा वर्कर, सफाई कर्मचारी, पुलिस और दूसरे फ्रंटलाइन वर्कर्स।

जनता कर्फ्यू, कोरोना के विरुद्ध हमारे समाज के संयम और अनुशासन का भी परीक्षण था, जिसमें हर देशवासी सफल हुआ। जनता कर्फ्यू ने देश को मनोवैज्ञानिक रूप से लॉकडाउन के लिए तैयार किया। हमने ताली-थाली और दीए जलाकर, देश के आत्मविश्वास को ऊंचा रखा। 

भारत की वैक्सीन, हमारी उत्पादन क्षमता पूरी मानवता के हित में काम आए, ये हमारी प्रतिबद्धता है। ये टीकाकरण अभियान अभी लंबा चलेगा, हमें जन जन के जीवन को बचाने में योगदान देने का मौका मिला है।

उन्होंने एक-एक जीवन को बचाने के लिए अपना जीवन आहुत कर दिया। इसलिए आज कोरोना का पहला टीका स्वास्थ सेवा से जुड़ लोगों को लगाकरो एक तरह से समाज अपना ऋण चुका रहा है। ये टीका उन सभी साथियों के प्रति कृतज्ञ राष्ट्र की आदरांजली भी है।

हमारे डॉक्टर्स, नर्स, पैरामेडिकल स्टाफ, एम्बुलेंस ड्राइवर, आशा वर्कर, सफाई कर्मचारी, पुलिस कर्मी और फ्रंटलाइन वर्कर्स, इन्होंने मानवता के प्रति अपने दायित्व को प्राथमिकता दी। इनमें से अधिकांश तब अपने बच्चों, अपने परिवार से दूर रहे।

आज जब हमने वैक्सीन बना ली है, तब भी भारत की तरफ दुनिया आशा और उम्मीद की नजरों से देख रही है। जैसे जैसे हमारा टीकाकरण अभियान आगे बढ़ेगा, दुनिया के अनेक देशों को हमारे अनुभव का लाभ मिलेगा।

 

जानिए देशभर की रिपोर्ट...

मध्य प्रदेश: मध्य प्रदेश में शनिवार को पहला टीका जेपी अस्पताल में तैनात सुरक्षा गार्ड को लगाया जाएगा, जबकि इंदौर जिले में पहला टीका एक महिला स्वास्थ्य कर्मी को लगाया जाएगा। प्रदेशभर में 150 सेंटर्स बनाए गए हैं। यहां सबसे पहले फ्रंट लाइन वर्कर्स को टीके लगाए जाएंगे। प्रत्येक सेंटर पर 100 वॉरियर्स को टीका लगाया जाएगा। यानी पहले दिन प्रदेश में 15 हजार लोगों को वैक्सीन का पहला डोज दिया जाएगा। मध्य प्रदेश पहले दिन सबसे ज्यादा डोज लगाने वाले टॉप-10 राज्यों में शामिल है। 

राजस्थान: राजस्थान में पहला टीका जयपुर के एसएमएस मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. सुधीर भंडारी को लगाया जाएगा। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत शनिवार को अपने आवास से टीकाकरण कार्यक्रम की औपचारिक शुरूआत करेंगे। चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने बताया कि राज्य में 161 स्थलों के अतिरिक्त जयपुर जिले के छह स्थलों पर भी टीकाकरण होगा। 13 जनवरी तक राजस्थान को टीके की दो कंपनियों से करीब 5 लाख 63 हजार खुराक प्राप्त हुए हैं, जिसमें कोविशील्?ड के 4,43,000 और कोवैक्सीन की 20,000 खुराक शामिल हैं। कोविन सॉफ्टवेयर में राज्य के छह लाख से अधिक लाभार्थियों का डेटा 14 जनवरी की शाम तक अपलोड किया जा चुका है।

गुजरात: अहमदाबाद और गांधीनगर में सरकारी अस्पतालों के चिकित्सा अधीक्षक शनिवार को गुजरात में कोरोनावायरस का टीका सबसे पहले लगवाने वाले लोगों में शामिल होंगे। अधिकारियों ने बताया कि राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान शुरू होने पर दिन के दौरान राज्य में 16 हजार से अधिक स्वास्थ्यकर्मियों को टीका लगाया जाएगा। टीकाकरण अभियान शनिवार की सुबह पूरे राज्य में 161 केन्द्रों पर एक साथ शुरू होगा। पहले दिन 16 हजार से अधिक स्वास्थ्यकर्मियों को टीका लगाया जाएगा। पहले चरण के लिए गुजरात स्वास्थ्य विभाग ने 4.31 लाख स्वास्थ्य कर्मचारियों की पहचान की है, जिनमें डॉक्टर और नर्स शामिल हैं। टीकाकरण कार्य के लिए लगभग 15,000 कर्मियों को प्रशिक्षित किया है।

झारखंड: झारखंड के 48 केंद्रों पर कोरोना का टीका दिया जाएगा। रांची के सदर अस्पताल में बनाए गए टीकाकरण केंद्र से मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन राज्य में टीकाकरण कार्यक्रम का शुभारंभ करेंगे। केंद्र में मुख्यमंत्री टीका लेने वालों से बात भी करेंगे।सभी जिलों में शनिवार को पहले दिन दो केंद्रों पर टीके की लांचिंग होगी। इसमें राज्यभर में 4800 लोगों को टीका देने का लक्ष्य है। बाद के दिनों में टीका लेने वालों की संख्या में इजाफा किया जाएगा।

छत्तीसगढ़: छत्तीसगढ़ में 2.67 लाख स्वास्थ्य कर्मियों और अग्रिम मोर्चे के कर्मियों को टीकाकरण के लिए तैयारी पूरी कर ली गई है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की संचालक डॉक्टर प्रियंका शुक्ला ने बताया कि राज्य में टीकाकरण की तैयारी पूरी कर ली गई है। 16 जनवरी से 97 टीकाकरण केंद्रों में टीकाकरण अभियान शुरू होगा। राज्य में सबसे पहले रायपुर स्थित डॉक्टर भीमराव अंबेडकर अस्पताल में महिला स्वच्छताकर्मी 51 साल की तुलसा तांडी को टीका लगाया जाएगा। 1,349 टीकाकरण केंद्र बनाए गए हैं।

यूपी: यूपी में 10 लाख 55 हजार 500 कोविशील्ड और 20,000 कोवैक्सीन के टीके मिल चुके हैं। प्रदेश के 8 लाख 57 हजार हेल्थ वर्कर्स के नाम सूचीबद्ध किए गए हैं। कोल्ड चेन पूरी तरह तैयार हैं। पहले इसकी क्षमता 80,000 लीटर थी, लेकिन इसे बढ़ाते हुए 2 लाख 3 हजार लीटर कर दी गई है। प्रदेश में 317 केंद्रों पर यह वैक्सीन लगाई जाएगी। हर केंद्र पर 100-100 लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी। इसके लिए 5-5 सदस्यों की टीम बनाकर स्वाथ्य कर्मियों को टीका लगाया जाएगा। इसकी दूसरी डोज 28  दिन बाद लगाई जाएगी। विभाग ने वी-विन शील्ड बनाई है। इसे पहन कर ही सभी कर्मी वैक्सीन लगाने का काम करेंगे। 

बिहार: बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की उपस्थिति में आईजीआईएमएस में सुबह 10.45 बजे टीका लगाने की शुरूआत होगी। राज्य में पहले दिन 30 हजार रजिस्टर्ड लोगों को टीका दिया जाएगा। पहला टीका आईजीआईएमएस के सफाईकर्मी रामबाबू और दूसरा टीका इसी अस्पताल के एंबुलेंस चालक अमित कुमार को दिया जाएगा। टीकाकरण के लिए राज्य में 300 सेंटर बनाए गए हैं, जहां प्रतिदिन 100 निबंधित लोगों का टीकाकरण होगा। राज्य में चार लाख 64 हजार 160 लोगों का टीकाकरण के लिए रजिस्ट्रेशन किया जा चुका है। राज्य में कुल 300 सेंटरों पर टीकाकरण होगा, जिसमें 259 सेंटर सरकारी जबकि 41 निजी सेंटरों पर टीकाकरण होगा।

उत्तराखंड: उत्तराखंड के 33 स्वास्थ्य केंद्रों में शनिवार से कोविड 19 वैक्सीन टीकाकरण शुरू हो जाएगा। बड़े जिलों में चार-चार केंद्रों तो छोटे जिलों में दो से तीन केंद्रों में टीकाकरण अभियान शुरू होगा। देहरादून, हरिद्वार, यूएसनगर, नैनीताल के स्वास्थ्य केंद्रों में चार चार जगह टीकाकरण होगा। इसके अलावा पहाड़ के दूसरे जिलों में स्वास्थ्य केंद्रों में दो से तीन जगह टीकाकरण होगा। करीब 87 हजार फ्रंट लाइन हेल्थ वर्कर का टीकाकरण होगा। राज्य को केंद्र से 1.13 लाख वैक्सीन मिली हैं। 

पंजाब-हरियाणा: टीकाकरण अभियान के लिए पंजाब में 59 और हरियाणा में 77 स्थान निर्धारित किए गए हैं। पंजाब को कोविड-19 टीके की 2.04 लाख खुराक, जबकि हरियाणा को 2.41 लाख खुराकों की खेप दी गयी है। पंजाब में करीब 1.74 लाख स्वास्थ्यकर्मी हैं। हफ्ते में चार दिन टीके दिए जाएंगे। पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने कहा कि कोविन साइट पर जिन लोगों का नाम होगा, उन्हें ही टीके की खुराक दी जाएगी। हरियाणा में करीब दो लाख स्वास्थ्यकर्मियों को टीके की खुराक दी जाएगी। चंडीगढ़ में चार स्थानों पर टीकाकरण होगा। चंडीगढ़ को टीके की 12,000 खुराकों की खेप मिल गई है।

गोवा: गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने शुक्रवार को कहा कि राज्य में कोविड-19 टीकाकरण अभियान के प्रथम दिन 16 जनवरी को करीब 700 स्वास्थ्य कर्मियों को टीका लगाया जाएगा। उन्होंने कहा कि टीकाकरण शुरूआत में सात केंद्रों पर होगा, जिनमें दो निजी केंद्र भी शामिल हैं। सात केंद्रों में से प्रत्येक पर कम से कम 100 स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण किया जाएगा। वहीं, गोवा मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल (जीएमसीएच) के डीन डॉ शिवानंद बांडेकर ने बताया कि प्रथम चरण में जीएमसीएच से संबद्ध करीब 5,000 स्वास्थ्य कर्मियों को टीका लगाया जाएगा।

दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की मौजूदगी में शनिवार को एलएनजेपी अस्पताल में एक डॉक्टर, एक नर्स और एक सफाई कर्मचारी को कोविड-19 का टीका दिया जाएगा। टीकाकरण अभियान की शुरूआत सुबह के समय होगी और केजरीवाल दिल्ली के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल लोकनायक जयप्रकाश नारायण (एलएनजेपी) का दौरा करने वाले हैं जिसने पूरे महामारी के दौरान बेहतर सेवा प्रदान की है। राष्ट्रीय राजधानी में शनिवार को 81 केंद्रों पर कोविड-19 का टीकाकरण अभियान शुरू होगा।