प्रयागराज: प्राइवेट अस्पताल का अमानवीय चेहरा, इलाज के पैसे नहीं चुका पाने पर पेट सिले बिना ही किया बच्ची को वापस, तड़पकर हुई मौत

 06 Mar 2021 12:10 PM

प्रयागराज। संगम नगरी प्रयागराज में प्राइवेट अस्पताल का अमानवीय चेहरा देखने को मिला है। यहां इलाज के पैसे नहीं चुका पाने पर अस्पताल ने बिना पेट सिले ही तीन साल की बच्ची को परिजनों को वापस कर दिया। पैसों के बिना इलाज के अभाव में बच्ची की हालत बिगड़ती चली गई और आखिरकार तड़प-तड़पकर बच्ची ने दम तोड़ दिया।

करेली निवासी ब्रह्मदीन मिश्रा की तीन साल की बेटी को पेट में समस्या थी। उसने धूमनगंज के एक प्राइवेट अस्पताल में बच्ची को भर्ती कराया। कुछ दिन बाद बच्ची के पेट का ऑपरेशन किया गया। इसकेक बाद एक ऑपरेशन और हुआ। बच्ची के पिता के मुताबिक इस ऑपरेशन का डेढ़ लाख रुपए लेने के बाद भी हॉस्पिटल प्रशासन ने पांच लाख की मांग की। जब परिवार ने रुपए देने में असमर्थता जताई तो हॉस्पिटल प्रशासन ने बच्ची सहित परिवार को बाहर कर दिया।

इसके बाद पिता अपनी बेटी को लेकर कई हॉस्पिटल तक गए। लेकिन गंभीर हालत के चलते सभी हॉस्पिटलों में बच्ची को एडमिट करने से मना कर दिया गया। आखिरकार बच्ची जिंदगी की जंग हार गई और उसने इलाज के अभाव में दम तोड़ दिया। मृतक बच्ची के पिता का आरोप है कि डॉक्टर्स ने बच्ची के ऑपरेशन के बाद सिलाई, टांका नहीं किया और परिवार को ऐसे ही सौंप दिया। इसी वजह से दूसरे हॉस्पिटल ने बच्ची को लेने से मना कर दिया। 

बच्ची के पिता ने सोशल मीडिया के जरिए अपनी बेटी की इलाज कि गुहार लोगों से लगाई। वीडियो में पिता न्याय की गुहार लगाते हुए अपने बच्चे की सीजर का खुला हुआ पेट भी दिखा रहा है। वीडियो के पोस्ट होने के बाद सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। सोशल मीडिया पर लोग जिला प्रशासन के साथ मुख्यमंत्री और पीएम से हॉस्पिटल के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की अपील कर रहे हैं।