गंजबासौदा हादसा : रेस्क्यू के दौरान एक और शव बरामद, अब तक मिली 5 लाशें , सबसे पहले कुएं में गिरे बच्चे की तस्वीर आई सामने

 16 Jul 2021 04:56 PM

विदिशा। मध्य प्रदेश के विदिशा जिले के गंजबासौदा में गुरुवार रात को कुएं में फिसलकर गिरे एक बच्चे को बचाने के लिए उसकी मुंडेर पर खड़े 2 दर्जन से ज्यादा लोग अचानक मिट्टी धंसने से कुएं में गिर गए और मलबे में दब गए। इनमें से 19 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है, वहीं रेस्क्यू के दौरान एक और शव को निकाला गया है, जिससे अब मरने वालों की संख्या 5 हो गई है। बचाव कार्य गुरूवार देर रात से लेकर अभी तक लगातार जारी है। ताजा जानकारी के मुताबिक प्रशासन ने मलबे को हटाने के लिए 4 बड़ी पोकलेन मशीन बुलाई हैं, जिससे अब रेस्क्यू ऑपरेशन ने गति पकड़ ली है। लेकिन मिट्टी की फिसलन की वजह से रेस्क्यू का काम काफी प्रभावित हो रहा है। क्योंकि खुदाई के दौरान निकाली जाने वाली मिट्टी वापस गड्डे में गिरती जा रही है। उम्मीद की जा रही है कि जल्द ही रेस्क्यू ऑपरेशन खत्म होगा। पूरी गांव में मातम पसरा हुआ है। इधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घटना की उच्चस्तरीय जांच कराने के निर्देश दिए गए हैं।

 

(यह तस्वीर रवि अहिरवार की है, जो सबसे पहले कुएं में गिरा था। इसे बचाने के लिए शुरुआत में कुछ लोग पहुंचे थे, लेकिन वहां लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई और कुएं की मुंडेर धसने से यह बड़ा हादसा हो गया।)

परिवार में सबसे छोटा बेटा था रवि
रवि के पिता ओमकार ने बताया कि उनके बेटा रवि अहिरवार की उम्र 10 साल है। वह हमारे साथ पानी भर रहा था। मैं बर्तन रखने के घर आया तब वह फिसलकर कुएं में गिर गया था। तब मेरे दूसरे बड़े बेटे में घर आकर सूचना दी। हम मौके पर पहुंचे। उसके बाद वहां एक छत कुएं में गिर गई, जिसकी वजह से 30-40 लोग कुएं में गिर गए। 

पल-पल का अपडेट ले रहे राज्यपाल-सीएम 
गंजबासौदा में हुए इस हादसे का पल-पल का अपडेट प्रदेश के राज्यपाल मंगूभाई छगनभाई पटेल और मुख्यमंत्री शिवराज सिहं चौहान ले रहे हैं। राज्यपाल ने आज विदिशा के प्रभारी मंत्री विश्वास सारंग को फोन कर अपडेट लिया। उन्होंने मंत्री सारंग से कहा कि किसी भी तरह की व्यवस्थाओं की जरूरत हो तो तुरंत सूचित करें। विश्वास सारंग ने बताया कि राज्यपाल को रेस्क्यू को लेकर अपडेट दिया गया है। हमारी प्राथमिकता है कि रेस्क्यू जल्द से जल्द हो। उन्होंने कहा कि अब तक 19 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया है। 

वल्लभ भवन के सिचुएशन रूम से सीएम व गृहमंत्री ले रहे ताजा अपडेट 
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा विदिशा जिले के गंजबासौदा के लाल पठार में हुए हादसे के बचाव कार्यों की वल्लभ भवन के सिचुएशन रूम से गृह एवं आपदा प्रबंधन के उच्च अधिकारियों के साथ घटनास्थल की लाइव मॉनीटरिंग कर रहे हैं। मुख्यमंत्री घटनास्थल से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से प्रभारी मंत्री विश्वास सारंग, कमिश्नर, आईजी, कलेक्टर, एसपी सहित एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीम से बचाव कार्यों की जानकारी प्राप्त कर रहे हैं।

सरकार पीड़ित परिवार के साथ खड़ी है : सीएम शिवराज
वहीं, सीएम शिवराज इस घटना पर लगातार नजर बनाए हुए हैं। सीएम ने सिचुएशन रूम से मॉनीटरिंग करने के बाद कहा कि कलेक्टर, एसपी, एडीजी, कमिश्नर, प्रभारी मंत्री विश्वास सारंग बिना पलक झपके रातभर से राहत पर अपनी निगरानी रखे हुए हैं। 

 

 

गंजबासौदा हादसे के मजिस्ट्रीयल जांच के आदेश
मीडिया से बातचीत करते हुए भोपाल संभागायुक्त कवीन्द्र कियावत ने बताया कि इस हादसे के रेस्क्यू के लिए एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें जुटी हुई हैं। उन्होंने कहा कि हादसे की मजिस्ट्रीयल जांच की जाएगी और इसकी जांच एडीएम करेंगे। उन्होंने कहा कि जल्द ही रेस्क्यू खत्म होगा और स्थिति साफ हो पाएगी की कितने लोग मलबे में फंसे हैं। 

50 फुट गहरे कुएं में गिरे दो दर्जन लोग
अब तक यह पता नहीं चल पाया है कि कुल कितने लोग इस मलबे में दबे हैं। लेकिन मौके पर 11 लोगों के मलबे में दबे होने वाले व्यक्तियों की एक सूची जारी की गई है। उसमें 10 साल से लेकर 48 साल तक के लोगों के नाम हैं। हालांकि मौके पर मौजूद एसपी विनायक वर्मा ने कहा है कि हम इस सूची की पुष्टि नहीं करते हैं, क्योंकि सर्वे अभी भी लगातार जारी है। जानकारी के मुताबिक यह कुआं करीब 50 फुट गहरा है और इसमें लगभग 20 फुट तक पानी था, हालांकि रेस्क्यू के दौरान कुएं में से पानी निकाल लिया गया है। 

इन 11 लापता लोगों की सूची हुई जारी 

मृतकों के परिवारजनों को 5-5 लाख की आर्थिक सहायता की घोषणा

इधर, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मृतकों के परिजनों को आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि इस पूरे मामले में शासन ने निर्णय लिया है कि मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख की आर्थिक सहायता और घायलों को 50-50 हजार की सहायता व नि:शुल्क इलाज मुहैया कराएगी। 

 

रेस्क्यू ऑपरेशन में ड्रोन की ली जा रही मदद
गंजबासौदा हादसे की सीधी तस्वीरें पुलिस कंट्रोल रूम भेजी जा रही है। इसके लिए तकनीक का इस्तेमाल करते हुए मौके पर ड्रोन का सहारा लिया जा रहा है। मौके पर मौजूद पुलिस अधिकारियों ने बताया कि डिजास्टर मैनेजमेंट की इकाई ड्रोन से बनाई जा रही तस्वीरों को देख रही है। वहां शासन व प्रशासन के अफसर ड्रोन के वीडियो को देखने के बाद हमें इस रेस्क्यू ऑपरेशन को जल्द से जल्द और बेहतर करने का मार्गदर्शन व दिशा-निर्देश दे रहे हैं। 

मुख्यमंत्री शिवराज ने जताया दुख
सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि गंजबासौदा में हुई दुर्घटना में अब तक 3 लोगों के निधन की दुखद खबर मिली है, उनके शव निकाले जा चुके हैं। मैं उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं और ईश्वर से प्रार्थना करता हूं कि वे दिवंगत आत्माओं को शांति दें। बचाव कार्य अभी जारी है, मैं लगातार मॉनिटरिंग कर रहा हूं।

 

मुख्यमंत्री घटनास्थल पर चल रहे राहत और बचाव कार्यों की खुद निगरानी कर रहे हैं। उन्होंने घटना की उच्च स्तरीय जांच और पीड़ितों को हर संभव मेडिकल सहायता उपलब्ध कराने के निर्देश दिए।

राहुल गांधी ने भी घटना पर जताया दु:ख
इधर, कांग्रेस के नेता राहुल गांधी ने भी ट्वीट कर इस घटना को दुखद बताया। उन्होंने कांग्रेस के साथियों से अपील की है कि बचाव कार्य में हर संभव मदद करें। 

 

कांग्रेस ने की 10 लाख मुआवजा देने की मांग
गंजबासौदा हादसे में मृतकों के परिजनों को 10 लाख मुआवजे और परिवार के किसी एक सदस्य को शासकीय नौकरी देने की मांग की है। मौके पर मौजूद कांग्रेस के पूर्व विधायक निशंक जैन ने कहा है कि मैं रात भर से यहीं हूं और अस्पताल के भी दौरे कर रहा हूं। पूर्व विधायक ने कहा कि कल शाम को जैसे ही घटना घटी तब पुलिस मौके पर आ जाती तो इतना बड़ा हादसा नहीं होता। जिन लोगों ने छत डाली थी, उनके खिलाफ 302 का प्रकरण दर्ज कराया जाए। जिनका निधन हुआ है उन्हें 10-10 लाख की आर्थिक मदद व शासकीय नौकरी दी जाए। घायलों को 2-2 लाख दिए जाएं। 

 

 

प्रभारी मंत्री लगातार घटनास्थल पर मौजूद
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने ट्वीट कर यह भी कहा है कि राज्य शासन के प्रतिनिधि के तौर पर विदिशा के प्रभारी मंत्री विश्वास सारंग रात भर घटनास्थल पर मौजूद रहे। उनकी देखरेख में बचाव दल फंसे हुए लोगों को बचाने में जुटे हुए हैं। 

 

ऐसे हुआ हादसा
वहीं, इस हादसे में कुएं में गिरने के बाद बचाए गए दो लोगों ने बताया कि कुएं में गिरे एक बच्चे को बचाते समय यह हादसा हुआ। उसे बचाने के लिए कुछ लोग इस कुएं में उतर गए, जबकि करीब 40-50 लोग उनकी मदद करने और देखने के लिए कुएं की मुंडेर और छत पर खड़े हो गए। इसी बीच कुएं की छत ढह गई, जिससे करीब 25-30 लोग कुएं में गिर गए।

 

कुंए में एक ट्रैक्टर भी गिरा
प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, रात करीब 11 बजे बचाव कार्य में लगा एक ट्रैक्टर भी इस कुएं में गिर गया, जिससे 4 पुलिसकर्मियों सहित कुछ लोग भी इस कुएं में गिर गए। इनमें से 3 पुलिसकर्मियों और कुछ अन्य लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है।

इससे पहले, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घटना के संबंध में वरिष्ठ अधिकारियों को तत्काल राहत और बचाव कार्य चलाने के निर्देश दिए। उन्होंने घटनास्थल पर मौजूद डीएम और एसपी से बात कर घटना के संबंध में जानकारी ली और बचाव अभियान को तेज गति से चलाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि राहत और बचाव कार्य के लिए भोपाल से एसडीआरएफ और एनडीआरएफ की टीमें पहुंच गई हैं।