मुरैना: वन विभाग की SDO पर 100 से ज्यादा ग्रामीणों ने हमला किया, फायरिंग की, रेत से भरा ट्रैक्टर छुड़ाकर ले गए

 10 Jun 2021 03:03 PM

मुरैना। वन विभाग की एसडीओ श्रद्धा पांढ़रे पर बुधवार रात ग्रामीणों ने हमला कर दिया। ग्रामीण बंदूक, लाठी, डंडा और फरसा लेकर आए थे। हमले के दौरान वन अमला कार से नहीं उतरा। अगर उतरता तो बड़ी घटना घट सकती थी। हमलावरों ने फायरिंग भी की और अवैध रेत से भरा ट्रैक्टर-ट्रॉली छुड़ा ले गए। श्रद्धा पर पिछले दो माह में यह 9वां हमला था।

एसडीओ श्रद्धा पांढ़रे बुधवार को एसएएफ और वन विभाग के आरक्षकों के साथ गश्त पर निकली थी। रास्ते में उन्हें अवैध रेत से भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली मिली। उस ट्रैक्टर-ट्रॉली को टीम ने रोका और जब्ती में ले लिया। एसडीओ ने देवगढ़ थाने के टीआई से कहा कि हमने यह अवैध रेत से भरी ट्रैक्टर-ट्राली पकड़ी है। इसे आकर ले जाएं। इस पर थाने के टीआई ने कहा कि वे थाने में नहीं हैं, अगर कोई स्टाफ होगा तो भेज देंगे।

वन विभाग की टीम काफी देर तक पुलिस का इंतजार करती रही, लेकिन पुलिस नहींं आई। इस पर टीम खुद ट्रैक्टर-ट्रॉली को देवगढ़ थाने में खड़ा करने ले जा रही थी। रास्ते में पठानपुरा गांव में लकड़ी और कांटें डालकर रास्ता जाम किया गया था। जैसे ही गाड़ी रुकी, लोगों ने हमला बोल दिया। ये लोग बंदूक, फरसा, डंडा व लाठी लिए हुए थे।

हमलावरों ने एसडीओ पांढ़रे पर हमला किया तो उसी दौरान उनके साथ गाड़ी में बैठे एसएएफ का जवान सामने आ गया और उसके हाथ में चोट लग गई जिससे उसका हाथ फ्रैक्चर हो गया। ग्रामीणों को हावी होता देखकर वन अमले ने अपनी गाड़ियां वापस कर लीं। हमलावर फायरिंग करते हुए रेत से भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली छुड़ा कर ले गए।