नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ को अघोरी बताया; जीतू पटवारी बोले- अच्छे मनोचिकित्सक से इलाज कराएं गृह मंत्री

 18 May 2021 03:51 PM

भोपाल। गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को अघोरी कहा है। मिश्रा ने यह तंज कमलनाथ के एक ट्वीट को लेकर कसा है। नाथ ने प्रदेश में कोरोना की जीवनरक्षक दवाओं की कमी को लेकर सरकार से सवाल किए थे। मिश्रा ने कहा कि अब यह जनता के साथ क्रूर मजाक है। असंवेदनशीलता की पराकाष्ठा है। इन्हें मुर्दों की आवाज सुनाई पड़ने लगी है और जनता के दर्द की आवाज सुनाई नहीं पड़ती। लगता है कमलनाथ अघोरी हो गए हैं। जब जनता को ढाढस बंधाने की जरूरत है, तब कमलनाथ जनता में डर पैदा कर रहे हैं।

गृह मंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने तय कर लिया है कि जहां भी देश के स्वाभिमान की बात होगी वहां पर सवाल जरूर खड़े करेंगे। मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस का स्तर इतना गिर गया है इसीलिए आज कांग्रेस वेंटिलेटर पर आ गई है। 

कमलनाथ ने कहा था-
‘अब प्रदेश में ऑक्सीजन, रेमड़ेसिविर की कमी की तरह ही ब्लैक फ़ंगस बीमारी में उपयोग में आने वाले आवश्यक इंजेक्शनों की कमी से जनता रोज़ जूझ रही है। इसकी कमी के कारण मरीज़ों की जान जा रही है। मरीज़ के परिजन दर-दर भटक रहे हैं। निजी से लेकर सरकारी अस्पतालों में इसका टोटा बना हुआ है। इस बीमारी की भयावहता अधिक है। सरकार जल्द ही इन जीवनरक्षक इंजेक्शनों की कमी दूर करे। इनकी आपूर्ति बढ़ाने के प्रयास युद्ध स्तर पर करे ताकि लोगों का जीवन बच सके। प्रदेश में अभी तक करीब 500 मरीज़ इस बीमारी के सामने आ चुके हैं, लेकिन ज़रूरी इंजेक्शनों की कमी से उनकी यह बीमारी भयावह होती जा रही है। सरकार ने इन इंजेक्शनों की आपूर्ति को लेकर अभी तक कोई ठोस कार्ययोजना ना बनाई है और ना इसके आवश्यक इंतज़ाम किए हैं?’ 

गृह मंत्री नरोत्तम के अघोरी बताने पर कांग्रेस ने आपत्ति ली
कांग्रेस के मीडिया प्रभारी जीतू पटवारी ने कहा कि गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा सीएम बनने के लिए खूब तंत्र साधना किए, इसलिए उन्हें अक्सर अघोरी और तांत्रिक लोगों की याद सताती रहती है। पटवारी ने कहा कि गृहमंत्री आए-दिन जिस तरह से कमलनाथ को लेकर आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति करते हैं उससे लगता है कि मंत्री नरोत्तम मिश्रा की मानसिक हालत कुछ ठीक नहीं है। पटवारी ने मिश्रा को नसीहत भी दी। कहा- उन्हें अच्छे मनोचिकित्सक से उपचार कराने की जरूरत है।