Breaking News

सागर : युवक को हुआ नेत्रहीन लड़की से प्यार, घरवाले राजी नहीं हुए तो अकेले ही बारात लेकर पहुंचा दूल्हा

 19 Jul 2021 05:45 PM

ललितपुर। उत्तर प्रदेश के ललितपुर जिले में एक युवक ने प्यार की मिसाल कायम की है। यह युवक मध्यप्रदेश के सागर जिले का रहने वाला है। उसने नेत्रहीन युवती से शादी की है। युवक के घरवाले इस शादी के लिए राजी नहीं थे, जब उसने घर वालों की नहीं सुनी तो मां और भाई ने उसे घर से निकाल दिया। लेकिन, युवक ने अपने घरवालों की एक ना सुनी और अकेले ही बारात लेकर ललितपुर पहुंच गया। ग्रामीणों ने दोनों की धूमधाम से शादी कराई।

 

ललितपुर जिले के मदनपुर गांव निवासी बब्बू रायकवार की बेटी वंदना जन्म से ही नेत्रहीन है। पिता बब्बू ने बताया कि उसने बेटी की शादी के लिए काफी प्रयास किया लेकिन कोई भी बेटी से शादी करने के लिए राजी नहीं हुआ। मैं उम्मीद छोड़ चुका था कि शायद ही अब कभी मेरी बेटी की शादी हो। लेकिन, सागर जिले के मड़ावन गांव निवासी मोहन रायकवार मेरी बेटी से शादी करना चाहता था। मोहन पेशे से कारीगर है। मोहन ने मेरी बेटी का देखते ही पसंद कर लिया था और वह शादी के लिए तैयार हो गया।

 

वहीं दूल्हे मोहन ने बताया कि मेरा परिवार इस शादी के सख्त खिलाफ है। मैंने कई बार परिवार को मनाने की कोशिश की लेकिन कोई नहीं माना। इसलिए मैं अकेले ही बारात लेकर निकल आया। मोहन ने बताया कि वंदना से शादी करने पर मेरी मां और भाई ने मुझे घर से निकाल दिया था। इसके बावजूद मैं वंदना के घर बारात लेकर पहुंचा और उससे शादी की। शादी समारोह में अपनों की कमी वंदना के गांव के लोगों ने पूरी कर दी।

 

कैसे हुई दोनों की मुलाकात

मोहन ने बताया कि एक महीने पहले मेरे एक परिचित करन सिंह ने मुझे फोन पर वंदना के बारे में बताया था। जिसके बाद मैं वंदना को देखने मदनपुर गया। तभी से वंदना मुझे पसंद आ गई थी। कहीं से रिश्ता न आने के वंदना परेशान रहती थी। यह परेशानी उसके चेहरे से साफ झलक रही थी। मैंने वंदना से शादी करने का फैसला कर लिया था। जब मैंने घर पहुंचकर अपने परिवार से इस बारे में बात की तो उन्होंने साफ मना कर दिया। मैंने परिजनों की बात नहीं मानी तो उन्होंने मुझे घर से निकाल दिया। घर से निकाले जाने के बाद मैं सीधे अपने परिचित करन सिंह के घर मड़ावन पहुंचा। मड़ावन से मैं बारात लेकर वंदना के घर गया और शादी की।