शिवराज का ऐलान- जहां जरूरत होगी, वहां टोटल लॉकडाउन करेंगे; गरीब और मध्यमवर्गीय का कोरोना का निशुल्क इलाज होगा

 07 Apr 2021 02:39 PM

भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ऐलान किया है कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई को सफल बनाने के लिए जहां जरूरत होगी, वहां टोटल लॉकडाउन करेंगे। छत्तीसगढ़ से लगने वाली सीमाओं को सील कर दिया गया है। गरीब और मध्यमवर्गीय लोगों का निशुल्क इलाज करने के लिए उन्होंने प्रदेश में 15 हजार बिस्तर की उपलब्धता का आश्वासन दिया। इसके साथ रेमडेसीविर इंजेक्शन की खरीद सरकारी स्तर पर करने के निर्देश भी दिए हैं। शिवराज बुधवार को भोपाल के मिंटो हॉल परिसर में अपने 24 घंटे का स्वास्थ्य आग्रह समाप्त करने के मौके पर मीडिया से चर्चा कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ऑक्सीजन और जरूरी दवा की कालाबाजारी रोकने के उपाय होंगे। जन अभियान परिषद की मदद से कोरोना वालंटियर अलग-अलग स्तर पर मदद करेंगे। उन्होंने कहा कि भोपाल में एलएनसीटी और पीपुल्स अस्पताल को कोविड के इलाज को अधिकृत किया गया है। अस्पतालों में एडमिशन प्रोटोकॉल लागू करेंगे। ग्रामीण क्षेत्रों में सर्वे शुरू करेंगे और होम आइसोलेशन के साथ वीडियो कॉलिंग से मरीजों की मॉनिटरिंग की जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रशासन के साथ समाज का सहयोग भी इस महामारी से लड़ने में चाहिए। सीएम के आह्वान पर 52 जिलों में 34 हजार स्वयंसेवकों ने अपनी सेवाएं देने का पंजीयन कराया है। 


सीएम के साथ मंगलवार शाम प्रदेशभर के नागरिकों से चर्चा में काफी सुझाव आए थे। जिनके आधार पर पिछले 24 घंटों में सरकार ने कोरोना नियंत्रण के लिए कुछ महत्‍वपूर्ण निर्णय लिए हैं। इनमें-

  • प्रदेश में कोविड मरीजों के लिए उपलब्‍ध बिस्‍तरों की संख्‍या को 24 हजार से बढ़ाकर 36 हजार किया जाएगा।
  • प्रदेश में कोविड मरीजों के नि:शुल्‍क इलाज के लिए उपलब्‍ध बिस्‍तरों की संख्‍या को बढ़ाकर 15 हजार किया जाएगा। 
  • प्रदेश में 720 फीवर क्‍लीनिक संचालित किए जाएंगे जिनके माध्‍यम से प्रतिदिन 40 हजार संदिग्‍ध मरीजों की नि:शुल्‍क कोरोना टेस्टिंग की जाएगी।
  • भोपाल में एलएनसीटी अस्‍पताल को कोविड अस्पताल घोषित कर वहां कोविड मरीजों के नि:शुल्‍क इलाज के लिए रिजर्व करेंगे।
  • इसी तरह भोपाल में पीपुल्‍स हॉस्पि‍टल में कोविड मरीजों के नि:शुल्‍क इलाज के लिए 300 बिस्‍तर आरक्षित किए गए हैं।


हमारा फोकस इन विशेष बातों पर रहेगा-

  • हमेशा मास्‍क का उपयोग
  • दो गज की दूरी यानि सोशल डिस्‍टेंसिंग
  • अपने हाथ बार-बार साबुन या सैनिटाईजर से धोना
  • 45 वर्ष से अधिक उम्र वालों का टीकाकरण


हम सभी को मिलकर जनता तक ये संदेश पहुंचाना है-

  • मास्‍क नहीं तो बात नहीं
  • मास्‍क नहीं तो सामान नहीं
  • मास्‍क नहीं तो आना-जाना नहीं

कोरोना वॉलेंटियर के लिए...

  • ‘मैं कोरोना वांलिटियर' अभियान प्रारंभ किया गया और आम नागरिकों को स्‍वयंसेवी के रूप में कोरोना के विरूद्ध लड़ाई से जोड़ा गया। अब तक 35 हजार से अधिक स्‍वयंसेवक अलग-अलग श्रेणियों में कोरोना वांलिटियर बने।
  • प्रदेश के जिन जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना का प्रभाव बढ़ रहा है वहां ‘किल कोरोना -2' अभियान प्रारंभ किया जायेगा। इसके अंतर्गत घर-घर जाकर सर्वे करते हुए संभावित मरीजों को चि‍न्‍हांकित किया जायेगा। 
  • एक हॉस्पिटल एडमिशन प्रोटोकॉल तैयार कर लागू किया जायेगा। इसका लाभ यह होगा कि हर पात्र मरीज को अस्‍पताल में दाखिल होने की सुविधा मिलेगी तथा जिन्‍हें भर्ती होने की आवश्‍यकता नहीं है वे घर पर ही आइसोलेट रहकर उपचार कर सकेंगे।
  • जो मरीज होम आइसोलेट हैं, उनकी प्रतिदिन 2 बार वीडियो कॉल के माध्‍यम से मॉनीटरिंग की जायेगी। आकस्मिक निरीक्षण कर  इसका सत्‍यापन किया जायेगा कि वे घर से बाहर तो नहीं जा रहे हैं।
  • प्रत्‍येक जिले में कम से कम एक कोविड केयर सेन्‍टर प्रारंभ किया जायेगा। यहॉ उन मरीजों को आइसोलेट किया जायेगा, जिनके घर पर होम आइसोलेशन के लिए पर्याप्‍त स्‍थान उपलब्‍ध नहीं है। 
  • हर निजी चिकित्‍सालय के लिए यह अनिवार्य होगा कि कोविड मरीज के इलाज की दरें अस्‍पताल में एक बड़े बोर्ड पर प्रदर्शित करें। निर्धारित दरों के अलावा कोई भी चार्ज लेने पर अस्‍पताल प्रबंधन के खिलाफ कार्यवाही की जायेगी।
  • जहां तक रेमिडीसिवर इंजेक्शन की कमी का प्रश्न है , सरकार इसको लेकर बहुत गंभीर है और हम जल्दी ही इसके उपयोग के सम्बन्ध में मानक प्रक्रिया ( एसओपी)/ प्रोटोकॉल  निर्धारित कर जारी करने जा रहे हैं । इससे रेमिडीसिवर के अनावश्यक उपयोग पर लगाम लगेगी और अभाव दूर होगा।
  • मास्‍क, ऑक्‍सीजन, दवाएं आदि की कालाबाजारी और अनावश्‍यक मूल्‍य वृद्धि को रोकने के लिए आवश्‍यक कदम उठाए जाएंगे। 
  • होम आइसोलेटेड मरीज घर के बाहर न निकलें और प्रोटोकाल का पालन करे, इसकी सख्‍त व्‍यवस्‍था बनाई जाएगी। 
  • कोरोना वालेंटियर्स को परिचय-पत्र प्रदान किये जाएंगे। 
  • सरकारी और निजी अस्पतालों में बिस्तरों की उपलब्धता की रियल टाइम जानकारी आम जनता को आसानी से उपलब्ध हो सके , हम इसकी भी व्यवस्था बना रहे हैं ।
  • सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि आयुष्‍यमान भारत योजना के हितग्राहियों का सभी पात्र अस्‍पतालों में नि:शुल्‍क इलाज हो। 
  • प्रदेश के सभी सरकारी अस्‍पतालों में दवाऐं, चिकित्‍सा जॉच और स्‍वास्‍थ्‍य अमले की समुचित व्‍यवस्‍था सुनिश्चित की जायेगी। 
  • प्रदेश के सभी अस्‍पतालों में ऑक्‍सीजन की उपलब्‍धता की लगातार निगरानी की जायेगी।
  • प्रदेश भर में ''मेरी सुरक्षा-मेरा मास्‍क'' अभियान निरंतर संचालित किया जायेगा और इसके माध्‍यम से प्रदेश की सुरक्षा के लिए सभी को मास्‍क पहनने का आह्वान किया जायेगा ।
  • सभी लोग मास्‍क पहनें इसके लिए मास्‍क की पर्याप्‍त उपलब्‍धता भी जरूरी है। राज्‍य सरकार महिला स्‍व–सहायता समूहों एवं जीवन-शक्ति योजना की महिला उद्यमियों के माध्‍यम से 10 लाख मास्‍क बनाकर उसका जनता में वितरण करवाएगी।
  • कोविड संक्रमण पर प्रभावी रोकथाम के लिए लोकहित में छत्‍तीसगढ़ राज्‍य से आने-जाने वाले या‍त्री बस वाहनों का परिवहन 15 अप्रैल तक के लिए स्‍थगित कर दिया गया है। 
  • मास्‍क न पहनना पाप करने के समान है। मास्‍क न पहनना अपराध की श्रेणी में आएगा और ऐसा करने वालों के विरूद्ध सख्‍ती की जाएगी।