पांच अप्रैल को बृहस्पति बदलेंगे अपनी राशि जानिए आपकी राशि पर क्या होगा इसका असर

 24 Mar 2021 07:12 PM

उज्जैन।  देव गुरू बृहस्पति पांच अप्रैल  2021 को सोमवार रात 24:22 बजे अपनी राशि बदलकर कुंभ में आ जाएंगे। कुंभ राशि भी शनि की राशि है इसलिए देश और दुनिया के लिए अभी माहौल नहीं बदलेगा। बृहस्पति 20 जून को वक्री होकर 14 सितंबर को फिर मकर राशि में वापस आएंगे और 20 नवंबर तक मकर में ही रहेंगे, किंतु 20 नवंबर से और 13 अप्रैल 2022 तक कुंभ में ही विचरण करेंगे। 
जानिए बृहस्पति के इस राशि परिवर्तन से क्या असर होगा विभिन्न राशियों पर : 
मेष: लाभ के योग बनेंगे। व्यवसाय अथवा नौकरी करने वाले व्यक्तियों को उनके परिश्रम का पूरा परिणाम मिलेगा।
वृष: कार्य सिद्धि योग बनेंगे। समय-समय पर लाभ प्रतिष्ठा और सम्मान की प्राप्ति होगी। धन लाभ के नए-नए स्रोत बनेंगे।
मिथुन: बृहस्पति का बदलाव शुभ रहेगा। धन लाभ लगातार होता रहेगा, किंतु व्यय की भी अधिकता रहेगी। घर में मंगल कार्यों में व्यस्त होने के योग हैं।
कर्क: लाभ कम रहेगा। देनदारी अधिक होने से मानसिक परेशानी हो सकती है। क्रोध से बचें और लेन-देन में सावधानी बरतें।
सिंह: अनावश्यक चिंता एवं मानसिक तनाव। किसी मित्र के संपर्क में आकर नया कार्य करने का योग हैं।  
कन्या: बृहस्पति धन लाभ करेंगे। विरोधियों से भी सावधान रहने की जरूरत है। परिवार में मंगल कार्य होने की संभावना है। स्वास्थ्य का भी विशेष ध्यान रखें। 
तुला: सुख मिलेगा आय के स्रोत निरंतर बने रहेंगे, कार्यकुशलता बढ़ेगी। संतान पक्ष से संतुष्टि रहेगी। राजनीतिक लोगों से संपर्क बढ़ेगा। प्रतिष्ठा एवं सम्मान के योग बन रहे हैं।
वृश्चिक: परिवार से वैचारिक मतभेद, धन लाभ होता रहेगा किंतु अनावश्यक खर्च भी लगातार बने रहेंगे। स्वास्थ्य का ध्यान रखें।
धनु: बृहस्पति खुशियां लेकर आ रहा है। मित्रों से और शुभचिंतकों से लाभ होता रहेगा। भाइयों का सहयोग मिलेगा। 
किंतु क्रोध पर नियंत्रण रखें। इससे आपको स्वास्थ्य हानि हो सकती है।
मकर: परिवार में मंगल कार्य होंगे, व्यर्थ की चिंताएं बढ़ेंगी। मानसिक परेशानी से आपका स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है। वरिष्ठ जनों का आशीर्वाद आपको मिलेगा।
कुंभ: जितनी भागदौड़ एवं परिश्रम करेंगे उतना लाभ होेगा। स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना होगा। बृहस्पति शारीरिक विकार दे सकते हैं।
मीन: मीन राशि वालों के लिए अनावश्यक खर्च के साथ-साथ मिथ्या आरोप का भी योग बन सकता है। वाद-विवाद से बचें।