केदारनाथ धाम: मेष लग्न में पूरे विधि विधान से खोले गए कपाट, कोरोना के चलते श्रद्धालु ऑनलाइन कर सकेंगे भगवान के दर्शन

 17 May 2021 09:37 AM

देहरादून। भगवान केदारनाथ धाम के कपाट आज सुबह पांच बजे मेष लग्न में पूरे विधि विधान से खोले गए। हालांकि, कोरोना महामारी के चलते पिछले साल की तरह इस बार भी श्रद्धालु भगवान के दर्शन नहीं कर सकेंगे। भक्त सिर्फ ऑनलाइन ही दर्शन कर सकेंगे। उत्तराखंड के सीएम तीरथ सिंह रावत ने श्रद्धालुओं को अपने घर में रहकर ही पूजा-अर्चना करने की अपील की है। इससे पहले केदारनाथ भगवान की पंचमुखी डोली शनिवार शाम को ही पहुंच गई थी।


कोरोना महामारी के कारण इस वर्ष भी केदारनाथ धाम के कपाट श्रद्धालुओं के बिना ही खुले। कोरोना संक्रमण के कारण सरकार ने चारधाम यात्रा स्थगित की है। मंदिर में सिर्फ रावल, तीर्थ पुरोहित, पंडा समाज व हकहककूधारियों को पूजा अर्चना की अनुमति होगी। पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने बताया कि देवस्थानम बोर्ड एवं मंदिर समितियों द्वारा चारों धामों में पहली पूजा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से जनकल्याण के लिए की जा रही है। शनिवार शाम को केदारनाथ भगवान की पंचमुखी डोली केदारनाथ धाम पहुंची। 


बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने की प्रक्रिया भी शुरू
बदरीनाथ धाम के कपाट 18 मई को प्रात: 4 बजकर 15 बजे खुल रहे हैं। रविवार को श्री नृसिंह मंदिर से आदि गुरु शंकराचार्य की गद्दी, रावल ईश्वरी प्रसाद नंबूदरी के साथ योगध्यान बदरी मंदिर पांडुकेश्वर पहुंच गए हैं। आज शाम श्री उद्धव एवं श्री कुबेर के साथ ही आदि गुरु शंकराचार्य की गद्दी बदरीनाथ धाम पहुंचेगी। वहीं, यमुनोत्री धाम के कपाट 14 मई और गंगोत्री धाम के कपाट 15 मई को खुल चुके हैं।