महाकाल मंदिर में बिना मास्क प्रवेश नहीं, ऑनलाइन दर्शन के लिए दी जाने वाली अनुमति की संख्या भी हो सकती है कम

 19 Mar 2021 05:16 PM
उज्जैन। कोरोना के कारण महाकाल मंदिर में प्रवेश और भगवान के दर्शन के नियम बदले जा रहे हैं। कुछ दिन पहले कुछ दिन पहले महाकाल मंदिर प्रबंध समिति ने निर्णय लिया था कि महाशिवरात्रि के बाद पहले सोमवार से भस्म आरती में भक्तों को प्रवेश मिलने लग जाएगा। लेकिन अब कोरोना के बढ़ते केस देख कर मंदिर प्रबंधन ने गर्भगृह में भक्तों के प्रवेश और भस्मारती में शामिल होने की प्रक्रिया को फिर से आगे बढ़ा दिया है। इसके साथ ही मास्क के बिना मंदिर में किसी का भी प्रवेश नहीं हो सकेगा। 
मंदिर समिति की ओर से जानकारी दी गई कि मंदिर में भक्तों को प्रवेश पहले जैसे ही प्री बुकिंग से ही दिया जाएगा। कोरोना की स्थिति को देखते हुए स्लॉट बुकिंग में श्रद्धालुओं की संख्या घटाने पर भी निर्णय हो सकता है। अभी एक स्लॉट में 1500 भक्तों को अनुमति मिल रही है। इसे घटाकर करीब 1000 तक किया जा सकता है। भस्म आरती और गर्भगृह में प्रवेश पहले से ही प्रतिबंधित है और यह जारी रहेगा। 
पिछले साल कोरोना बढ़ने के साथ ही महाकाल मंदिर में दर्शन व्यवस्था बंद कर दी गई थी। कोरोना संकट में थोड़ा काबू पाने के बाद 9 जून 2020 को भक्तों के लिए फिर से बाबा महाकाल के पट खुल गए थे। लेकिन भस्मारती में भक्तों के शामिल होने पर रोक थी।