मार्श कप: बॉल विकेट पर नहीं लगने के बाद भी आउट हुए सैम हार्पर, देखें वीडियो; जानें क्रिकेट में कितने तरीके से आउट हो सकते हैं बल्लेबाज

 08 Apr 2021 11:48 AM

क्रिकेट के बारे में ऐसे कई सारे फैक्ट होंगे जिन्हें शायद क्रिकेट प्रेमी नहीं जानते होंगे। इन्हीं में से एक है कि बल्लेबाज आखिरी कितने तरीके से आउट हो सकता है। हाल ही में आॅस्ट्रेलिया के घरेलू टूनार्मेंट मार्श कप में थर्ड अंपायर ने बल्लेबाज को जिस अनोखे तरीके से आउट करार दिया उसको देखकर शायद आपको यकीन ना हो। 

विक्टोरिया और साउथ ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए मुकाबले में सैम हार्पर को फील्डर द्वारा थ्रो करने के दौरान विकेट के सामने पाए जाने पर थर्ड अंपायर ने पवेलियन का रास्ता दिखाया। थर्ड अंपायर के इस फैसले ने क्रिकेट के जानकारों के बीच एक नई बहस छिड़ गई है।

यह घटना हुई विक्टोरिया टीम की बल्लेबाजी के समय में जब सैम हार्पर ने डेन वॉरेल की गेंद को सामने की तरफ खेला और गेंदबाज ने अपने फॉलोथ्रू में बॉल को पकड़कर विकेटों की तरफ फेंका। क्रीज से आगे खड़े हार्पर ने अपना विकेट का बचाव करने के लिए स्टंप के सामने आ गए और गेंद उनके पैड पर जाकर लगी, जिसके बाद साउथ ऑस्ट्रेलिया टीम के कप्तान ट्रेविड हेड समेत सभी खिलाड़ियों ने इसको लेकर अपील की। ऑन फील्ड अंपायर के बीच हुई काफी देर तक चर्चा के बाद फैसले को थर्ड अंपायर के पास भेजा गया, जहां रिप्ले में देखा गया कि हार्पर बॉल आते वक्त स्टंप के एकदम सामने खड़े थे, जिसके चलते उनको आउट करार दिया गया। 

हालांकि, क्रिकेट में यह पहला मौका नहीं है, जब किसी बल्लेबाज को इस तरह से आउट दिया गया हो। इससे पहले साल 2006 में भारत और पाकिस्तान के बीच खेली गई वनडे सीरीज के दौरान इंजमाम उल हक को सुरेश रैना के थ्रो को बैट से मारने के चलते आउट करार दिया गया था। नियमों के मुताबिक भी अगर कोई बल्लेबाज जानबूझकर फील्डिंग में बाधा डालते हुए पाया जाता है, तो उसको आउट दिया जाना चाहिए।

 

 

तो ऐसे में हम आपको बताने जा रहे हैं कि क्रिकेट में आखिरी बल्लेबाज कितने तरीकों से आउट हो सकता है। 

बोल्ड- जब गेंदबाज की ओर से फेंकी गई बॉल विकेट पर लग जाती है तो उसे बोल्ड करार दिया जाता है। ऐसे में यह बॉल बैट, पैड या शरीर को लगकर भी विकेटों को लगती है तो उसे आउट माना जाता है।

कैच आउट- अगर गेंदबाज की बॉल बल्लेबाज के बल्ले या बल्ले को पकड़ने वाले हाथ से लगकर हवा में उछलती है और जमीन पर गिरने से पहले विपक्षी टीम के खिलाड़ी द्वारा कैच कर लिया जाता है तो बल्लेबाज को आउट करार दिया जाता है। कैच आउट विकेटकीपर, फील्डर, बॉलर द्वारा भी किया जा सकता है।

लेग बिफोर विकेट - अगर गेंदबाज द्वारा फेंकी गई गेंद बल्ले से टकराने से पहले बल्लेबाज के शरीर से इस प्रकार टकराती है कि अगर बल्लेबाज वहां खड़ा नहीं होता तो वह गेंद विकेट को लग जाती तो बल्लेबाज को लेग बिफोर विकेट के माध्यम से आउट करार दिया जाता है।

स्टंपिंग- जब गेंदबाज बॉल फेंकता है और विकेट कीपर गेंद से विकेटों की गिल्लियों को गिरा देता है और उस वक्त बल्लेबाज या उसका बैट क्रीज में नहीं होता है तो उसे आउट माना जाएगा। इसे स्टम्ड आउट कहते हैं।

रन आउट- जब बल्लेबाज रन लेने के लिए दौड़ता है और उसी बीच विरोधी टीम का फील्डर, बल्लेबाज या उसके बैट के क्रीज में पहुंचने से पहले उस साइड के विकेट की गिल्लियां गिरा देता है तो उसे रन आउट माना जाएगा।

गेंद को दो बार मारना- अगर कोई बल्लेबाज सिर्फ अपने विकेट को बचाने के मकसद से या विपक्षी टीम की सहमति के बिना गेंद को दो बार मारता है तो उसे आउट करार दिया जाता है। हालांकि कई रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि इंटरनेशनल क्रिकेट में कोई इस तरह से आउट नहीं हुआ है।

हिट विकेट- जब बल्लेबाज शॉट मारते वक्त अपने बल्ले से ही विकेट की गिल्लियां गिरा देता है तो उसे हिट विकेट के माध्यम से आउट माना जाता है।

फील्ड को बाधित करना- अगर कोई बल्लेबाज जानबूझकर फील्डर को बाधा पहुंचाता है तो उसे आउट करार दिया जाता है, जिसमें फील्डर की फेंकी गई गेंद को रोकना भी शामिल है।

टाइम आउट- यदि कोई बल्लेबाज अपनी बारी आने पर टेस्ट और वनडे मैचों में 3 मिनट के अंदर मैदान पर नहीं आता है तो उसके आउट करार दिया जा सकता है और टी-20 मैचों में 2 मिनट में मैदान में नहीं पहुंचता है तो उसे टाइम आउट के तहत आउट करार दिया जाता है।

मांकड़िग आउट- जब गेंदबाज को लगता है कि उसके गेंद फेंकने से पहले ही बल्लेबाज नॉन-स्ट्राइकर क्रीज से बहुत पहले बाहर निकल रहा है तो वह नॉन-स्ट्राइकर छोर की गिल्लियां उड़ाकर नॉन-स्ट्राइकर बल्लेबाज को आउट कर सकता है। इस घटना में गेंद रिकॉर्ड नहीं होती लेकिन विकेट गिर जाता है।

हैंडल्ड द बॉल- कोई बल्लेबाज विपक्षी टीम के खिलाड़ी की अनुमति के बिना गेंद को हाथ से छूता है तो उसे फील्ड को बाधित करने वाले नियम के तहत आउट करार दिया जाता है।