ग्वालियर: पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में खुलासा, व्यापारी को चढ़ाया था घटिया प्लाज्मा; 3 दलालों पर गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज

 13 Dec 2020 12:43 PM

ग्वालियर। दतिया निवासी व्यापारी मनोज गुप्ता की घटिया प्लाज्मा चढ़वाने से मौत हुई थी। मृतक की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट इसका खुलासा हुआ है। व्यापारी की मौत के तीन दिन बाद शनिवार को पड़ाव थाना पुलिस ने प्लाज्मा बेचने वाले गिरोह के मास्टरमाइंड अजय शंकर त्यागी सहित तीन लोगों पर गैर इरादतन हत्या और धोखाधड़ी का केस दर्ज कर तीनों को गिरफ्त में ले लिया है।

गिरोह में पांच लोगों के नाम सामने आए हैं, लेकिन बाकी के खिलाफ सबूत जुटाए जा रहे हैं। शॉर्ट पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मृत व्यापारी के खून में संक्रमण मिला है। यह संक्रमण प्लाज्मा चढ़ाने के बाद फैला, इसकी पड़ताल के लिए बिसरा की जांच कराई जा रही है। इसी गिरोह ने कोरोना संक्रमित व्यापारी के परिजनों को जेएएच की फर्जी रसीद थमाकर 18 हजार रुपए में प्लाज्मा बेचा था। इसे चढ़ाने के दो दिन बाद मरीज की मौत हो गई थी।

संक्रमित मरीजों के परिजनों से गिरोह यह कहकर पैसा वसूलता था कि प्लाज्मा जेएएच से दिलवा रहे हैं। वे जेएएच की फर्जी रसीद भी देते थे। ताकि मरीज के परिजनों को भरोसा हो जाए। यह पता लगाया जा रहा है कि यह लोग प्लाज्मा कहां से लाते थे।

एसपी अमित सांघी ने बताया कि अजय शंकर त्यागी जेएएच की सेंट्रल पेथोलॉजी लैब में पदस्थ सहायक मनीष शर्मा उर्फ त्यागी का भाई है। वह मूल रूप से दतिया के मगरौल का रहने वाला है। वर्तमान में वह नाका चंद्रबदनी पर रहता है और एक निजी लैब में कार्य करता था।

इससे पहले वह 11 जनवरी को तब पकड़ा गया था, जब उसने खुद को हाईकोर्ट जज बताते हुए तत्कालीन संभागायुक्त एमबी ओझा को अपने भाई मनीष का पिस्टल का लाइसेंस बनाने के लिए फोन किया था। जेल से छूटते ही उसने प्लाज्मा के नाम पर लोगों को ठगने का काम शुरू कर दिया। उसने चार अन्य दलालों के साथ मिलकर गैंग बनाई और नकली प्लाज्मा का कारोबार शुरू कर दिया।

एएसपी सतेंद्र सिंह तोमर ने बताया कि जो प्लाज्मा मरीज को चढ़ाया गया, वह अमानक निकला है। इसके चलते 3 दलालों पर गैर इरादतन हत्या और धोखाधड़ी की धाराओं में मामला दर्ज किया गया है। 

यह है गिरोह की चेन
1. अजय शंकर त्यागी: यह गिरोह का मास्टरमाइंड है। इसने एक और दलाल का नाम बताया है। उसकी तलाश अभी चल रही है।
2. जगदीश भदकारिया: अपोलो अस्पताल का कर्मचारी है। इसने दलाल महेश मौर्या का नंबर दिया था।
3. महेश मौर्या: वेदांश हॉस्पिटल का कर्मचारी और अजय शंकर त्यागी का दलाल है। उस तक कोरोना संक्रमित मरीजों के परिजनों को यह कहकर पहुंचाता है कि वह जेएएच की लैब का कर्मचारी है और वह प्लाज्मा उपलब्ध करा देगा।
4. हेमंत: यह एक निजी अस्पताल का कर्मचारी है। यह महेश मौर्या की तरह दलाली करता है।