स्क्रू रहित, आधुनिक एलएचबी कोच के साथ मंडल की पहली ट्रेन बनेगी जनशताब्दी एक्सप्रेस

 18 Oct 2020 10:04 PM  112

भोपाल।भोपाल से जबलपुर के बीच चलने वाली जनशताब्दी एक्सप्रेस जल्द ही आधुनिक एलएचबी कोच (जर्मन कंपनी ंिलक हॉफमैन बुश की तकनीक से निर्मित) के साथ चलेगी। कपूरथला से करीब 11 कोच भेजे गए हैं, जो हबीबगंज रेलवे डिपो में खड़े हैं। नए कोच लगने से ट्रेन में जर्क नहीं लगेगा और आवाज भी कम आएगी। कोच के अंदरूनी हिस्से में स्क्रू कम होंगे। इसमें अंदर की बनावट आकर्षक रहती है। जानकारी के अनुसार अक्टूबर के अंतिम सप्ताह तक यह ट्रेन नए कोचेज के साथ चलने की संभावना है। बता दें कि वर्तमान में इसमें इंट्रीगल कोच फैक्ट्री (आईसीएफ) द्वारा तैयार पुरानी डिजाइन के कोच लगे हैं। अधिकांश ट्रेनों में ऐसे ही कोच हैं।

यह है खासियत
ल्ल  एलएचबी कोच को 4.75 लाख किमी चलने पर मेंटेनेंस की जरूरत पड़ती है।
ल्ल कोच में एंटी टेलिस्कोपिक सिस्टम लगा होता है, इस कारण यह पटरी से नहीं उतरते।
ल्ल सेंटर बफर कपंिलग लगी होती है। इसके चलते दुर्घटना होने पर कोच एक-दूसरे पर नहीं चढ़ते।
ल्ल सामान्य कोचों की तुलना में अधिक लंबे होते हैं। सीटों के बीच जगह भी ज्यादा होती है।
ल्ल एलएचबी कोच 160 से 200 किमी दौड़ने वाली ट्रेन में लग सकते हैं।
ल्ल कोच का साउंड लेवल 60 डेसीबल से भी कम होता है। इस कारण अंदर बैठने वाले यात्रियों को ट्रेन चलने पर बाहर की आवाज कम सुनाई देती है।
ल्ल बाहरी दीवारें सामान्य कोचों की तुलना में अधिक मजबूत होती हैं।           

इस कोच की सुविधाएं काफी आधुनिक होती है। यात्रियों की सुविधाओं के हिसाब से कंफर्टेबल होती है। सुरक्षा के नजरिए से भी यह मॉडर्न टेक्नोलॉजी से लैस होता है।
विजय प्रकाश, सीनियर डीसीएम्