ममता बोलीं- मुझे मोदी के सामने चिढ़ाया, मुझे बंदूक दिखाई तो संदूक दिखा दूंगी; नारा दिया-'हरे कृष्णा हरे राम, विदा हो बीजेपी-वाम'

 25 Jan 2021 04:19 PM

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में अप्रैल-मई में विधानसभा चुनाव होने हैं। इससे पहले ही टीएमसी और बीजेपी के बीच जुबानी जंग तेज होती जा रही है। सोमवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि उन्हें पीएम नरेंद्र मोदी के सामने चिढ़ाया गया। उन्होंने कहा कि यदि उन्हें बंदूक दिखाई गई तो वह बंदूक का संदूक दिखा सकती हैं, लेकिन वह राजनीति में विश्वास करती हैं, बंदूक में नहीं। नेताजी के लिए समारोह में नेताजी को ही असम्मान किया गया है। कुछ लोगों ने मुझे परेशान किया। मैं पहरेदार हूं, बीजेपी झूठे वीडियो बनाती है। करोड़ों रुपए खर्च करके फेक न्यूज बनाती है। ममता सोमवार को यहां हुबली में एक रैली को संबोधित कर रही थी।

ममता ने रैली में 'हरे कृष्णा हरे राम, विदा हो बीजेपी-वाम' का नारा भी दिया। ममता ने 23 जनवरी को विक्टोरिया मेमोरियल में ''जय श्रीराम'' के नारे लगाने के मसले को नेताजी सुभाष चंद्र बोस और बंगाल का अपमान बताया है। तब ममता ने नाराज होकर भाषण देने से मना कर दिया।

ममता ने कहा- अगर आप घर में निमंत्रण करते हैं तो अपमान करेंगे क्या? नेताजी के समारोह में गई थी, कुछ उग्र लोगों ने अराजकता की मुझे बंदूक दिखाई तो मैं भी संदूक दिखाउंगी। अगर नेताजी नेताजी के नारे लगाते तो अलग बात थी। इससे पहले भी महापुरुषों को लेकर कई गलतियां की हैं। सीपीएम, कांग्रेस और बीजेपी तीन भाई हैं, जगाई, मधाई और गदाई।''

मुख्यमंत्री ने टीएमसी छोड़कर बीजेपी में जा रहे नेताओं पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा- बीजेपी वॉशिंग मशीन है। सम्मानित लोगों को हम अपनी पार्टी में लेंगे। चोरों को टीएमसी में नही लेंगे। मैं दूसरे दलों के सम्मानित लोगों को कहूंगी कि ट्रेन छूटने वाली है जल्दी जाओ। तुम लोगों को टीएमसी का टिकट नहीं मिलता, इसीलिए बीजेपी जा रहे हो।

उन्होंने कहा- बंगाल कंगाल नहीं है, बीजेपी टीवी वालों को डराकर सिर्फ टीवी पर जीत रही है। बूथ कर्मी जो हैं, वही पार्टी के लिए सबसे अहम काम करते हैं। काम करने से ही नेता बनते हैं, पेड़ से अचानक गिरकर नेता नहीं बनते। पैसा देते हैं तो पैसा ले लीजिए, चिकेन और चावल खा लेना लेकिन वोट मत देना। बीजेपी अपने पार्टी आॅफिस में ही आग लगा रही है। बाहरी गुंडो को घुसने नहीं देंगे।