61 साल बाद विलोपित होगा मप्र भू-राजस्व संहिता से ‘डायवर्सन’ शब्द

 18 Oct 2020 10:11 PM  114

भोपाल। मध्यप्रदेश भू-राजस्व संहिता 1959 में से डायवर्सन की धारा को खत्म करने के बाद अब ‘डायवर्सन’ शब्द को ही विलोपित करने की तैयारी शुरू हो गई है। 61 साल बाद डायवर्सन शब्द की जगह ‘कर निर्धारण’ शब्द का उपयोग किया जाएगा। बीते दिनों आयुक्त भू-अभिलेख ज्ञानेश्वर बी. पाटिल ने वीडियो कॉन्फ्रेंिसग में इस संबंध में भू-अभिलेख अधिकारियों को जानकारी दी थी। उन्होंने कहा था कि वे बोलचाल में भी अब डायवर्सन शब्द की जगह कर निर्धारण शब्द का उपयोग करें। इसके पीछे भू-अभिलेख के अधिकारियों का तर्क है कि डायवर्सन की धारा खत्म होने के बाद अब भूमि का उपयोग कृषि से आवासीय या व्यावसायिक कराने के लिए सीधे ही दो कर प्रीमियम और भू-भाटक की राशि एसडीएम द्वारा तय कर दी जाती है। ऐसे में भूमि उपयोग में परिवर्तन के लिए डायवर्सन शब्द की जगह कर निर्धारण शब्द का उल्लेख करना ही बेहतर है। आयुक्त भू अभिलेख ज्ञानेश्वर बी पाटिल ने बताया कि अब डायवर्सन जैसा कोई शब्द नहीं रहा। इसकी जगह जल्द ही कर निर्धारण शब्द का उपयोग होगा। वर्तमान में राजस्व अधिकारी भूमि के उपयोग में परिवर्तन के लिए केवल कर(प्रीमियम और भू-भाटक ) का ही निर्धारण कर रहे हैं।