उज्जैन कलेक्टर को किन्नरों ने घेरा, फरार्टेदार अंग्रेजी में बात की, कागज पर कुछ लिखवाया, फिर जाने दिया

 23 Feb 2021 09:59 PM

उज्जैन। उज्जैन में मंगलवार को कलेक्टर आशीष सिंह के सामने अजीब स्थिति बन गई। जनसुनवाई से लौटते वक्त कलेक्टर को किन्नरों की टोली ने घेर लिया और शिकायत दर्ज कराई। किन्नर अंग्रेजी में बात कर रहे थे। समस्या सुनाने के बाद कागज पर कलेक्टर से आश्वासन लिखवाकर साइन भी करवाए। उसके बाद जाने दिया। 

दरअसल, हर मंगलवार को उज्जैन के वृहस्पति भवन में जन सुनवाई होती है। इसमें आवेदकों की परेशानी सुनने के लिए कलेक्टर आशीष सिंह आए थे। जन सुनवाई खत्म होते ही कलेक्टर जैसे ही वापस लौटने के लिए निकले तो सामने से किन्नर आ गए। किन्नरों की टोली ने कलेक्टर आशीष सिंह की गाड़ी को घेर लिया और जाने से रोक दिया। कलेक्टर से किन्नरों ने खाली कागज पर आश्वासन लिखवाया, उस पर साइन करवाए। उसके बाद ही उन्हें वहां से जाने दिया।

यह है मामला 
किन्नरों का आरोप है कि पिछले महीने उन्होंने उज्जैन में एक वर्कशॉप की थी। उसके लिए सामाजिक न्याय विभाग से 2 लाख का अनुदान आना था। लेकिन 70 हजार रुपए ही आया। कार्यालय के अधिकारी वो 70 हजार रुपए की अनुदान राशि देने में भी आनाकानी कर रहे हैं। यही वजह है कि किन्नरों ने आज कलेक्टर को घेर कर अनुदान राशि जल्द देने की मांग की। कलेक्टर से कोरे कागज पर लिखवाया कि जैसे ही अनुदान मिलेगा, वैसे ही राशि भेज दी जाएगी।

जब कलेक्टर किन्नरों से बातचीत कर ही रहे थे उसी बीच एक किन्नर ने फर्राटेदार अंग्रेजी में बात करना शुरू कर दिया। उसने इंग्लिश में अपनी बात पूरी समझाई। कलेक्टर ने भी किन्नरों की बात ध्यान से सुनी और समझाया कि अनुदान 70 हजार मंजूर हुआ है, लेकिन अब तक कार्यालय में नहीं आया है। जैसे ही आएगा वैसे ही आपके खाते में राशि भेज दी जाएगी।