22 दिसंबर को लॉन्च होगा पहला स्वदेशी ब्लॉकचेन स्मार्टफोन, कोई भी चाइनीज पार्ट्स का इस्तेमाल नहीं हुआ है

 14 Dec 2020 02:27 PM

मोबाइल फोन और उसके पार्ट्स बनाने में चीन का पहला स्थान है। भारत में बिकने वाले लगभग सभी मोबाइल फोन में चायनीज पार्ट्स का इस्तेमाल अवश्य हुआ होता है। भारत में तमाम मोबाइल कंपनियों के स्मार्टफोन का प्रोडक्शन होता है। लगभग सभी कंपनियों के स्मार्टफोन के साथ मेड इन इंडिया का टैग लिखा हुआ मिल जाएगा, लेकिन यह बात आप भी जानते हैं कि ये फोन पूरी तरह से 100 मेड इन इंडिया नहीं हैं। इन्हें भारत में सिर्फ असेंबल किया गया है। पार्ट्स इसमें चाइनीज ही प्रयोग होते हें। लेकिन अब भारत में ऐसा फोन लॉन्च होने जा रहा है जिसमें एक भी चायनीज पार्ट्स का इस्तेमाल नहीं हुआ है।

फेसचैन नाम की कंपनी इसी महीने भारत का पहला ब्लॉकचेन स्मार्टफोन पेश करने जा रही है। कंपनी 22 दिसंबर को इनब्लॉक नाम से दो ब्लॉकचेन पावर्ड स्मार्टफोन लॉन्च करेगी। फोन की लॉन्चिंग लखनऊ में होगी। कंपनी का दावा है कि इस फोन में किसी भी चाइनीज प्रोडक्ट का इस्तेमाल नहीं किया गया है। सभी पार्ट्स दुबई से मंगाए जा रहे हैं। साथ ही यह फोन भारतीय बाजार में चीनी मोबाइलों को फीचर्स व दाम को टक्कर देंगे। कंपनी ने उत्तर प्रदेश सरकार से गौतमबुद्ध नगर के जेवर में मोबाइल फैक्ट्री लगाने के लिए जमीन मुहैया कराने की भी मांग की है। फिलहाल कंपनी का प्लांट सेक्टर-63 में चल रहा है।

कंपनी का कहाना है कि इस फोन के यूजर्स को किसी भी तरह की परेशानी होने पर सर्विस सेंटर जाने की जरूरत नहीं होगी। सर्विस टीम आपके घर पर ही फोन ठीक करने पहुंचे। कंपनी ने कहा है कि फोन खराब होने पर वह बिना सवाल किए कंपनी नया हैंडसैट देगी।

फोन के फीचर्स के बारे में कंपनी ने कोई जानकारी अभी नहीं दी है लेकिन कहा जा रहा है कि एचडी डिस्प्ले के साथ इन-डिस्प्ले फिंगरप्रिंट सेंसर मिलेगा। इसके अलावा फोन में बड़ी बैटरी भी मिलेगी। फोन की एक फोटो सामने आई है जिसके मुताबिक कहा जा सकता है कि इसमें क्वॉड रियर कैमरा सेटअप और पंचहोल डिस्प्ले मिलेगी।

फोन की लॉन्चिंग को लेकर कंपनी के फाउंडर दुर्गा प्रसाद त्रिपाठी ने कहा, 'भारतीय स्मार्टफोन बाजार में शीर्ष 5 कंपनियां (89% बाजार हिस्सेदारी के साथ) गैर-भारतीय हैं। यह हम सभी भारतीयों के लिए बहुत चिंता की बात है। हम प्रधानमंत्री और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री से प्रेरित हैं और लोकल फॉर वोकल अभियान के तहत देश का पहला ब्लॉकचेन पावर्ड स्मार्टफोन बाजार में उतरने का मन बनाया है। क्रिप्टोकरंसी की लैंग्वेज में ब्लॉक्स का मतलब ट्रांजेक्शन्स का तब तक का रेकॉर्ड होता है, जब एक ट्रांजेक्शन पूरा होता है।'