अगर आप भी बना रहे हैं कहीं घूमने का प्लान तो एक बार जरूर जाएं इंफाल, प्राकृतिक सुंदरता को करीब से निहारने का मिलेगा मौका

 13 Feb 2021 06:11 PM

नई दिल्ली। कई लोग होते हैं जिन्हें नई-नई जगह घूमने-फिरने का काफी शौक होता है। वह अलग-अलग देशों, राज्यों और शहरों में जाना, उनके बारे में जानना और कुछ दिनों तक रुकना चाहते हैं। लॉकडाउन से ही टूरिस्ट इंडस्ट्री पर ताले पड़ गए थे। पर अब यह क्षेत्र भी धीरे-धीरे अनलॉॅक हो रहा है। कोरोना वैक्सीन आने के बाद से लोग जरूरी एहतियात के साथ घूमने जा रहे हैं। 

पर लोगों के मन में अक्सर यह सवाल रहता है कि घूमने के लिए कहां जाया जाए। कौन सी वह जगह हैं जहां उनकों अच्छा महसूस होगा। तो आपके इस सवाल के जवाब में हम आपकी थोड़ी सी मदद कर सकते हैं और आपकों एक सुझाव दे सकते हैं। मानना नहीं मानना आप पर है। 

हम आपको सुझा रहे हैं मणिपुर की राजधानी इंफाल के बारे में। यह एक बहुत ही खूबसूरत, मनमोहक और रमणीय जगह है। बेहद शांत और खूबसूरत प्राकृतिक दृश्य यहां की सुंदरता को और भी बढ़ा देते हैं। चारों तरफ से हरी-भरी घाटियों से घिरा यह शहर समुद्र तल से 790 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यहां आकर आपको निश्चित रूप से सुकून का अनुभव होगा। यहां के कुछ प्रमुख दर्शनीय स्थलों के बारे में भी हम आपको बता रहे हैं। 

जूलॉजिकल गार्डन
इस प्राणी उद्यान में आपको कुछ दुर्लभ प्रजातियां भी देखने को मिल जाएंगी। यहां पक्षियों की भी कई प्रजातियां हैं। इंफाल से करीब 27 किलोमीटर दूर बिष्णुपुर में एक प्राचीन भगवान विष्णु का मंदिर स्थित है, जिसके बारे में कहा जाता है वह 1467 ईस्वी में बना था। यह जगह वाकई देखने लायक है। 

कंगला किला 
इंफाल का प्राचीन कंगला किला कभी एक भव्य इमारत थी, जो दो हजार साल से भी ज्यादा समय से अस्तित्व में है। इसके आकर्षक खंडहर इसकी भव्यता की कहानी बयां करते हैं। इस पूरे किले में कई मंदिर हैं जो पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं। 

लोकटक झील 
यह झील अपनी सतह पर तैरते हुए वनस्पति और मिट्टी से बने द्वीपों के लिए दुनियाभर में प्रसिद्ध है। यह दूर-दूर से पर्यटकों को अपनी खूबसूरती से खींच लाती है। आप इस झील को करीब से देखने के लिए घर किराये पर ले सकते हैं। सुबह की पहली किरण के साथ यहां नौका विहार का आनंद सर्वोत्तम होता है। 

शहीद मीनार 
11 मीटर लंबी यह मीनार बीर टिकेंद्रजीत पार्क में स्थित है। इसे ब्रिटिश सेना के खिलाफ वर्ष 1891 में हुए मीती विद्रोह में मारे गए शहीदों की याद में बनाया गया है। जो लोग इंफाल घूमने के लिहाज से आते हैं, वो इस मीनार को देखने जरूर आते हैं।