भारतीय रेलवे का नया मुकाम: विस्टाडोम कोच वाली ट्रेन का परीक्षण किया, 180 किमी स्पीड

 29 Dec 2020 06:34 PM

साल के अंत में भारतीय रेलवे ने एक और मुकाम हासिल कर लिया है। विस्टाडोम कोच वाली ट्रेन 180 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से दौड़ाई गई है। रेलमंत्री पीयूष गोयल ने ट्विटर पर इसकी घोषणा की है। उन्होंने बताया कि नए डिजाइन के विस्टाडोम टूरिस्ट कोच 180 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से दौड़ने में सक्षम हैं और उनका सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया है।

पीयूष गोयल ने ट्वीट किया
''एक अहम मुकाम के साथ साल का अंत: भारतीय रेलेवे ने नए डिजाइन के विस्टाडोम टूरिस्ट कोच के साथ 180 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड के साथ सफलतापूर्वक ट्रायल किया। ये कोच यात्रियों के लिए यात्रा को यादगार बनाएंगे और पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा।''

स्पीड के मामले में इसने देश वंदे भारत एक्सप्रेस की बराबरी कर ली है। जिसने ट्रायल के दौरान 180 किलोमीटर प्रति घंटे से ज्यादा की स्पीड हासिल की थी। हालांकि, इस ट्रेन की अधिकतम स्पीड 220 किमी प्रति घंटे तक हो सकती है। इससे पहले भारतीय पटरियों पर टैल्गो ट्रेन 180 की स्पीड से दौड़ी थी, लेकिन वह स्पेन की ट्रेन थी। इसके अलावा गतिमान एक्सप्रेस दिल्ली से झांसी के बीच अधिकतम 160 किलोमीटर प्रति घंटे की स्पीड से सफर करती है।

कोच की खासियत

खासतौर पर डिजाइन किया गया यह एयरकंडीशंड विस्टाडोम कोच, भारतीय रेलवे में इस तरह का इकलौता कोच है। 'इस ट्रेन पर यात्रा करने वाले यात्री इस विशेष कोच में रोटेटेबल कुर्सियों पर बैठेंगे।  साथ ही इसमें मनोरंजन के लिए हैंगिंग एलसीडी भी लगी होंगी। 40 सीटों वाले इस कोच की लागत 3.38 करोड़ रुपये है। इस ट्रेन में 360 डिग्री पर घूमने वाली चौड़ी सीटें हैं, जिससे सफर में बाहर के नजारों का बेहतरीन अनुभव मिलेगा।