मप्र: वर्ष की विदाई से अभिनंदन तक प्रदेश के टाइगर रिजर्व फुल; क्रिसमस से न्यू-ईयर के पहले सप्ताह तक पर्यटकों का मेला लगेगा

 13 Dec 2020 09:00 PM

जबलपुर। कोविड-19 के संकट में देश की तरह प्रदेश के टाइगर रिजर्व में भी पर्यटन को मार्च के अंतिम सप्ताह से जो ग्रहण लगा था, वह अब कम होता दिख रहा है। सुरक्षा के प्रोटोकॉल के बीच कान्हा, बांधवगढ़, पन्ना, पेंच, सतपुड़ा और संजय गांधी टाइगर रिजर्व में दिसंबर माह के अंतिम सप्ताह के प्रारंभ से नववर्ष के दूसरे सप्ताह तक सैलानियों का मेला लगने जा रहा है।

मध्य प्रदेश के सभी पार्कों में परंपरा के अनुसार पर्यटक जंगल के राजा के दीदार करने न्यूईयर पर पार्कों की ओर रुख करेंगे। हालांकि दिसंबर के पहले सप्ताह में पर्यटकों की संख्या खास नहीं दिख रही है, लेकिन ऑन लाईन बुकिंग में सभी पार्कों में क्रिसमस से लेकर जनवरी के दूसरे सप्ताह के प्रारंभ तक बुकिंग फुल होने के आसार हैं।

ये हैं सूरत-ए-हाल
पेंच टाइगर रिजर्व- 24 दिसंबर से 3 जनवरी तक बुकिंग फुल बताई जा रही है।
कान्हा टाइगर रिजर्व- 21 दिसंबर से 7 जनवरी तक बुकिंग फुल।
बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व- 22 दिसंबर से 4 जनवरी तक बुकिंग फुल।
पन्ना टाइगर रिजर्व- 25 दिसंबर से 2 जनवरी तक बुकिंग फुल।
सतपुड़ा टाइगर रिजर्व- 25 दिसंबर तक 1 जवरी तक बुकिंग फुल।
संजय गांधी टाइगर रिजर्व- 24 दिसंबर से 4 जनवरी तक बुकिंग फुल।

 

गाइड एसोसिएशन के अध्यक्ष राजेश द्विवेदी ने कहा कि पर्यटन बढ़ा है, कोविड-19 के प्रोटोकॉल के बीच सैलानी क्रिसमस से आना शुरू होंगे, आशा है अब पर्यटन ट्रैक पर लौट आएगा।

बांधगवढ़ पार्क में टाइगर्स डेन के संचालक ज्ञानेन्द्र तिवारी ने बताया कि दूसरे प्रदेशों से आने वाले पर्यटक इस बार नहीं दिख रहे हैं, 200-300 किमी दूर से ही सैलानी आ रहे हैं। धीरे-धीरे पर्यटन बढ़ेगा, आशा है कि जनवरी से देशभर के सैलानी पहुंचने लगेंगे।

वाइल्ड लाइफ के पीसीसीएफ आलोक कुमार का कहना है कि प्रदेश के टाइगर रिजर्व में पर्यटकों की संख्या बढ़ी है, कोविड-19 के बीच पार्कों में सुरक्षा के पूरे इंतजाम रखने के निर्देश दिए गए हैं। एनटीसीए के नियमों का पालन कराते हुए पर्यटन दिसंबर से हर वर्ष की तरह रौनक से सराबोर होगा।