रेलवे की ई-कैटरिंग सर्विस शुरू करने की तैयारी; ट्रेन में पैसेंजर केएफसी-हल्दीराम ब्रांड का खाना और नामी कंपनियों का पिज्जा मंगा सकेंगे

 19 Jan 2021 12:53 PM

नई दिल्ली। इंडियन रेलवे ने ट्रेनों में ई-कैटरिंग सर्विस को फिर से शुरू करने का फैसला लिया है। रेलवे के अनुसार फिलहाल ये सुविधा कुछ चुनिंदा स्टेशनों पर ही शुरू की जाएगी। जिन स्टेशनों पर ई-कैटरिंग सेवा दी जाएगी, वहां केंद्र और संबंधित राज्य सरकारों के स्वास्थ्य संबंधी सभी नियमों का पालन किया जाएगा। कोरोना महामारी के कारण ट्रेनों में खाना बनाना, एसी बोगियों में कंबल, तकिया और चद्दर की सर्विस बंद कर दी गई थी, लेकिन अब इंडियन रेलवे ने ट्रेनों में ई-कैटरिंग सेवा को फिर से शुरू करने की अनुमति दे दी है।

रेल सफर के दौरान एक बार फिर से रेल यात्री रेल रेस्टरो मैकडॉनल्ड, डोमिनोज, पिज्जा हट, केएफसी, हल्दीराम जैसे मनपसंद ब्रांड का खाना मंगा सकेंगे। इसके लिए भारतीय रेलवे खानापान एवं पर्यटन निगम (आइआरसीटीसी) ई-कैटरिंग सेवा शुरू करने की तैयारी कर रहा है। फरवरी के पहले सप्ताह से नई दिल्ली समेत अन्य प्रमुख रेलवे स्टेशनों से यह सेवा शुरू होने की उम्मीद है। इसके चलते देशभर के लाखों रेल यात्रियों को इसका फायदा होगा, क्योंकि ज्यादातर लोग रेलवे के खाने पर निर्भर होकर ही ट्रेन यात्रा करते हैं।

सीट पर ही मिलेगा खाना
ई-कैटेरिंग सर्विस के जरिए यात्री अपनी पसंद का खाना आॅनलाइन आॅर्डर कर सकते हैं। आॅर्डर के समय ही यात्रियों को इस बात की जानकारी भी मिल जाएगी कि आपका खाना कितनी देर में और किस स्टेशन पर मिलेगा। इसके लिए यात्री को कहीं जाने की जरूरत नहीं होगी बल्कि सीट पर ही डिलीवर किया जाएगा।

ट्रेन में मार्च से खानपान सेवा बंद है
कोरोना महामारी के कारण मार्च में ही ट्रेन में खानपान सेवा बंद कर दी गई थी। बाद में ट्रेनों का परिचालन भी बंद हो गया था। जून से विशेष ट्रेनें चल रही हैं, लेकिन खानपान सेवा सीमित स्तर पर चल शुरू की गई है। यात्रियों की मांग पर पहले से तैयार खाना यात्रियों को उपलब्ध कराया जाता है। पेंट्री कार सेवा अभी भी बंद है। इससे राजधानी, शताब्दी, हमसफर सहित लंबी दूरी की अन्य ट्रेनों में सफर करने वालों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। यात्री खानपान सेवा फिर से शुरू करने की मांग कर रहे हैं।

12 जनवरी को कैटरिंग सर्विस की अनुमति
आईआरसीटीसी ने रेलवे बोर्ड से सितंबर में ई-कैटरिंग शुरू करने की अनुमति मांगी थी। बोर्ड ने 12 जनवरी को इस सेवा को शुरू करने की अनुमति दे दी है। इसके बाद से आईआरसीटीसी ने उन रेलवे स्टेशनों की पहचान शुरू कर दी है जहां से ई-कैटरिंग सेवा शुरू की जा सकती है। 

अधिकारियों का कहना है कि कोरोना संकट शुरू होने से पहले लगभग 150 कंपनियों को ई-कैटरिंग सेवा के तहत यात्रियों को भोजन और अन्य खाद्य सामग्री उपलब्ध कराने की अनुमति दी गई थी। यात्री आॅनलाइन आॅर्डर देकर अपनी सीट पर जायकेदार भोजन मंगा सकते थे। अब फिर से यह सेवा उपलब्ध होगी। फिलहाल,  हल्दीराम, गिट्स फूड्स, नेस्ले, टाटा स्मार्ट फूड सहित 14 कंपनियां आइआरसीटीसी को तैयार भोजन उपलब्ध करा रही हैं। आईआरसीटीसी के कर्मचारी मांग के अनुरूप यात्रियों तक भोजन पहुंचाते हैं।