थाने में हल्दी रस्म : महिला कॉन्स्टेबल को नहीं मिली छुट्टी तो थाना परिसर में हुआ समारोह, मंगल गीत भी गाए

 24 Apr 2021 10:10 AM

जयपुर। कोरोना संक्रमणकाल ने देश ही नहीं बल्कि दुनियाभर में कोहराम मचा रखा है। आलम यह है कि कहीं लोगों के रोजगार छूट गए हैं तो कहीं व्यवसायिक क्षेत्र भी आर्थिक संकट से जूझ रहा है। बात करें पुलिस महकमे की तो इस विकट परिस्थितियों में उन्हें छुट्टियां भी नसीब नहीं हो रही है। जिसके कारण घरेलू या अन्य कामों को भी वर्किंग आॅवर्स में ही निपटने पड़ रहे हैं। ऐसा ही एक मामला राजस्थान के जयपुर का आया है। राजस्थान में कोरोना वायरस कहर की वजह से पाबंदियां लागू हैं। राजस्थान की एक महिला पुलिस कॉन्स्टेबल अपनी हल्दी रस्म की वजह से चर्चा में है। दरअसल, डूंगरपुर कोतवाली में तैनात आशा नाम की महिला पुलिस कॉन्स्टेबल की हल्दी की रस्म थाने में ही हुई। आशा की हल्दी रस्म का समारोह थाना परिसर में ही इसलिए हुआ, क्योंकि राज्य में जगह-जगह लॉकडाउन की वजह से उन्हें इसके लिए छुट्टी नहीं मिल पाई। 

 

महिला पुलिस कॉन्स्टेबल आशा की शादी होने वाली है। मगर कोरोना के बढ़ते केसों की वजह से उन्हें हल्दी की रस्म के लिए छुट्टी नहीं मिल पाई। यही वजह है कि हल्दी की रस्म थाने में ही निभाई गई। यहां थाने में अन्य महिला कॉन्स्टेबलों ने दुल्हन आशा को हल्दी लगाई और मंगल गीत गाकर रस्म को अच्छे से निभाया। आशा का कहना है कि उनकी शादी पिछले साल मई में ही होने वाली थी, मगर देशव्यापी लॉकडाउन और कोरोना की वजह से स्थगित कर दी गई। इस बार उनकी शादी 30 अप्रैल को होने वाली है। हालांकि, लॉकडाउन की वजह से अभी वह ड्यूटी पर ही हैं और यही वजह है कि जब हल्दी की रस्म के लिए उन्हें छुट्टी नहीं मिली तो थाने में ही इसका आयोजन किया गया। 

 

थाने की महिला स्टाफ ने परिवार की भूमिका निभाई और शादी का मंगल गीत गाकर आशा को हल्दी लगाई गई। तस्वीरों में देखा जा सकता है कि कैसे महिला स्टाफ मिलकर आशा को हल्दी लगा रही हैं। बताया जा रहा है कि आशा को शादी के लिए छुट्टी मिल गई है।