जेल से शिफ्ट हो रहे आजीवन कारावास के बंदी से जबरन मुलाकात का प्रयास

 20 Jun 2020 12:07 AM  5

ग्वालियर सेंट्रल जेल, ग्वालियर से उत्तरप्रदेश शिफ्ट किए जा रहे आजीवन कारावास की सजा काटने वाले बंदी से दो युवकों द्वारा जबरन मुलाकात का प्रयास करने से जेल में हड़कंप मच गया। सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि बंदी की शिफ्टिंग रोकते हुए उसे पुन: ग्वालियर जेल में ही रखा गया है। झांसी निवासी सरदार सिंह पुत्र जरदान सिंह अंतर्राज्यीय बदमाश है, जिस पर पकड़े जाने से पहले ढाई लाख रुपए का इनाम घोषित था। दतिया में पकड़े जाने पर उसे आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी, तथा उसे सेंट्रल जेल, ग्वालियर में रखा गया था। बीते रोज उसे हमीरपुर, उत्तरप्रदेश की जेल में शिफ्ट किया जा रहा था, जब उसे जेल से बाहर निकाला गया, तभी वहां कार क्रमांक एमपी07 सीजी 7333 में सवार होकर आए दो युवक खुद को सरदार सिंह का रिश्तेदार बताते हुए उससे मिलने की जिद्द करने लगे। चूंकि सुरक्षा के मद्देनजर सरदार सिंह को गोपनीय तरीके से शिफ्ट किया जाना था, ऐसे में उसकी शिफ्टिंग की सूचना लीक होने की जानकारी जब वहां तैनात जेल प्रहरियों को लगी, तो उन्होंने तुरंत उसे दोबारा जेल के भीतर पहुंचा दिया, वहीं पुलिस को घटना की जानकारी दी। सूचना पाकर पहुंची पुलिस दोनों युवकों को गिरफ्तार कर थाने ले गई, यहां पूछताछ में उन्होंने अपने नाम अमर सिंह और धर्मवीर बताए हैं। बताया गया है कि दोनों युवकों के पास से लगभग 50 हजार रुपए भी बरामद हुए हैं। पुलिस युवकों से पूछताछ कर रही है, कि उनके जेल आने का मकसद क्या था। आजीवन कारावास की सजा काट रहे बंदी को शिफ्ट किया जा रहा था, तभी वहां पहुंचे दो युवक उससे मुलाकात करने को लेकर बहस करने लगे। जिससे सुरक्षा के लिहाज से बंदी को पुन: जेल के भीतर पहुंचा दिया गया है। मनोज कुमार साहू अधीक्षक, केंद्रीय जेल ग्वालियर दो युवकों ने शिफ्ट हो रहे बंदी से मुलाकात करने का प्रयास किया था, जिन्हें अरेस्ट कर उनसे पूछताछ की जा रही है।