अमरावती की तर्ज पर तैयार किया जाएगा भोपाल का मास्टर प्लान

अमरावती की तर्ज पर तैयार किया जाएगा भोपाल का मास्टर प्लान

भोपाल। भोपाल कैपिटल एरिया की प्लानिंग के लिए अफसरों की टीम आंध्रप्रदेश की नई राजधानी अमरावती के मास्टर प्लान का अध्ययन करने जाएगी। ताकि मास्टर प्लान बनाते समय इसका ध्यान में रखें। भोपाल के विकास के लिए विभाग में एक वर्किंग ग्रुप बनाएं। ग्रुप में विशेषज्ञों को रखें। नगरीय विकास एवं आवास मंत्री जयवर्द्धन सिंह और जनसम्पर्क, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री पीसी शर्मा ने यह बातें कहीं। इस मौके पर अधिकारी व जनप्रतिनिधि मौजूद थे। बैठक में राज्य सभा सांसद दिग्विजय सिंह ने कहा कि मास्टर प्लान बनाते समय बड़े तालाब के कैचमेंट की प्लानिंग ऐसी करें कि तालाब में पानी की आवक निर्बाध जारी रहे। कॉलोनियों को नगर निगम में शामिल करने के लिए कार्यवाही की जाए। प्रमुख सचिव नगरीय प्रशासन एवं विकास संजय दुबे ने मास्टर प्लान की तैयारियों की जानकारी दी।

जितने पेड़ काटे उससे अधिक पेड़ लगाएं

बैठक में तय किया गया कि विकास कार्यों के दौरान जितने पेड़ कटें, उससे अधिक लगाए जाएं। साीहोर शुगर मिल और भेल की खाली जमीन का उपयोग अन्य उद्योगों के लिए किया जाए। सेटेलाइट टाउन, एजुकेशन हव, फूड पार्क, लॉजिस्टिक हब, स्पोट्स सिटी, टूरिज्म के लिए जमीन आरक्षित की जाएं। एमपी नगर में कोचिंग के आस-पास अतिक्रमण हटाने के साथ ही उनके पुनर्वास की भी व्यवस्था करें।