रैली के बहाने भाजपा का 24 सीटों पर चुनावी शंखनाद

रैली के बहाने भाजपा का 24 सीटों पर चुनावी शंखनाद

भोपाल। वैसे तो भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा की रैली वर्चुअल थी, लेकिन इसके रियल इंपैक्ट जल्दी देखने को मिलेंगे। रैली में जेपी नड्डा, शिवराज सिंह चौहान, वीडी शर्मा के संबोधन में वो सब कुछ था, जिसकी उपचुनाव में भाजपा की जरूरत होगी। साथ ही मंच पर नड्डा के साथ बैठे थावरचंद गेहलोत, नरेंद्र सिंह तोमर और भाजपा में हाल में आए और राज्यसभा सांसद बने ज्योतिरादित्य सिंधिया को स्थान देकर भाजपा ने राजनीतिक संदेश भी दे दिया। वीडी शर्मा ने जिस प्रकार से सेना का मुद्दा उठाया और पाकिस्तान को घेरा, साफ था कि उनकी निगाहें ग्वालियर-चंबल के फौजी, उनके परिवार और रिटायर्ड फौजियों पर थी। इस इलाके में बहुतायत में लोग सेना में है। ऐसे में चीन की ताजा घुसपैठ, कांग्रेस नेताओं की बयानबाजी के सहारे वे बड़ी चतुराई से सेना के शौर्य का बखान कर इमोशनल कार्ड खेल गए। शिवराज ने भी कांगे्रस को कटघरे में खड़ा किया। नड्डा ने शिवराज और वीडी की तारीफ, मोदी के कार्यकाल के कामों को गिनाना और कांग्रेस पर हमला बोलना। उन्होंने भी कहें तो उपचुनाव का एजेंडा सेट कर दिया।

वर्चुअल रैलियों से योजनाओं का प्रचार शर्मनाक: कमल नाथ

पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने गुरुवार को नड्डा की वर्चुअल रैली को बेहद शर्मनाक कहा है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के संक्रमणकाल में भी भाजपा को मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के एक वर्ष पूर्ण होने पर अपनी उपलब्धियों व योजनाओं के प्रचार-प्रसार की लगी है। एक तरफ मप्र में इस कोरोना महामारी से अभी तक 12 हजार से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं और 500 से अधिक लोगों की मौतें हो चुकी है, लेकिन इन दुखद मौतों पर संवेदना व्यक्त करने व कोरोना महामारी के नियंत्रण में अपनी सरकार की असफलता को स्वीकारने की बजाय, भाजपा मोदी का महिमा मंडन व सरकार का गुणगान करने में लगी हुई है।