मंत्रिमंडल विस्तार की गेंद दिल्ली के पाले में

 26 Jun 2020 01:30 AM  6

भोपाल। मंत्रिमंडल विस्तार की गेंद केंद्रीय नेतृत्व के पाले में डालकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भगवान बालाजी के दर्शन करने तिरुपति रवाना हो गए। वे दर्शन के बाद दिल्ली जाएंगे और राष्ट्रीय नेताओं से मिलकर बीच का रास्ता निकालने का प्रयास करेंगे। असल में पूरा पेंच भूपेंद्र सिंह, रामपाल सिंह और राजेंद्र शुक्ल को लेकर है। वहीं सिंधिया समर्थक विधायकों को एडजस्ट करने के कारण पार्टी के पुराने नेताओं को मौका नहीं मिलने का डर बना हुआ है। संघ और संगठन का दबाव नए चेहरों को तवज्जो देने को लेकर भी एक प्रमुख कारण है। बहरहाल, यह तय है कि बहुत जल्द मंत्रिमंडल विस्तार होगा। सीएम शिवराज सिंह चौहान, विष्णुदत्त शर्मा और प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत के बीच कई दौर का मंथन हो चुका है। प्रदेश नेतृत्व के साथ केंद्रीय नेता भी बीच का रास्ता निकालने का सुझाव दे चुके हैं। करीब 23 मंत्री और बनाए जाएंगे। इस समय पांच मंत्री है, जिसमें दो सिंधिया समर्थक है। सिंधिया खेमे से 8 चेहरे लगभग तय सिंधिया खेमे से तुलसी सिलावट और गोविंद सिंह राजपूत मंत्री बन चुके हैं। इनके अलावा 8 विधायकों के नाम पर सहमति हो चुकी है। इनमें राज्यवर्धन सिंह दत्तीगांव, डॉ. प्रभुराम चौधरी, महेंद्र सिंह सिसोदिया, प्रद्युम्न सिंह तोमर, इमरती देवी, रणवीर जाटव, बिसाहूलाल सिंह, हरदीप सिंह डंग शामिल है।