भाजपा के नाराज नेताओं पर कांग्रेस की नजर

 17 Jun 2020 01:07 AM  8

भोपाल। दिग्गजों के इनकार के बाद अब कांग्रेस विधानसभा उपचुनाव में जिताऊ और क्षेत्र में पकड़ वाले चेहरों की तलाश कर रही है। कांग्रेस ने भाजपा से प्रेमचंद गुड्डू, बालेंदु शुक्ला तथा बसपा से सत्यप्रकाशी को पार्टी में शामिल किया है। पार्टी कुछ अन्य सीटों पर भाजपा से नाराज नेताओं को टिकट देकर चौका सकती है। इसे राज्यसभा चुनाव के बाद अंजाम दिया जाएगा। चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी चयन में सर्वे परज्यादा जोर दे रही है। प्रदेश अध्यक्ष कमल नाथ एक-एक सीट पर जिताऊ चेहरों के नामों पर मंथन कर रहे हैं। कांग्रेस ने पहले रणनीति बनाई थी कि सुरखी से पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह, पोहरी से पूर्व विधायक रामनिवास रावत, सुवासरा से पूर्व सांसद मीनाक्षी नटराजन और बदनावर से अरुण यादव को उपचुनाव लड़ाया जाए, लेकिन इन्होंने मना कर दिया।

इन नामों पर चल रहा है मंथन

जौरा से प्रदीप शर्मा या संजय यादव, सुमावली से मानवेंद्र सिंह गांधी व बसपा के अजय सिंह कुशवाह, मुरैना से पूर्व विधायक सोबरन सिंह मावई , परसराम मुदगल की पत्नी, अभी ये बसपा में हैं, दीमनी से रवींद्र सिंह व अन्य, अंबाह से बसपा के पूर्व विधायक सत्यप्रकाश सखवार, सुरेश जाटव, मेहगांव से चौधरी राकेश सिंह चतुर्वेदी या राकेश सिंह भदौरिया, गोहद से मेवाराम जाटव, कोक सिंह जाटव, डबरा से सत्यप्रकाशी या वृंदावन कोरी, भांडेर से फूल सिंह बरैया, ग्वालियर पूर्व से संत कृपाल सिंह व अशोक सिंह, बमोरी से ऋषि अग्रवाल व सुमेर सिंह, अशोक नगर से आशा दोहरे या लड्डूराम कोरी, मुगावली से प्रद्युम्न सिंह दांगी व रामराजा यादव, पोहरी से सुरेश धाकड़ और पूर्व मंत्री रामनिवास रावत, करेरा से रमेश खटीक व अन्य , हाटपिपल्या से राजवीर सिंह बघेल व भाजपा छोड़ने पर दीपक जोशी, बदनावर से हरि सिंह या राजेश अग्रवाल, सुरखी से भूपेंद्र सिंह या राजेंद्र सिंह मोकलपुर, सांची से महेंद्र प्रताप सिंह, पूर्व विधायक रघुवीर सिंह सूर्यवंशी आदि के नामों पर विचार चल रहा है।