1.43 करोड़ की हाईटेक ट्रांजेक्शन ‘पीओएस’ से कटेगा ई-चालान

1.43 करोड़ की हाईटेक ट्रांजेक्शन ‘पीओएस’ से कटेगा ई-चालान

भोपाल यातायात नियमों का उल्लंघन करने पर होने वाली चालानी कार्यवाही का हाईटेक तरीका ट्रैफिक पुलिस ने अख्तियार कर लिया है। जहां अब तक चालानी कार्यवाही के लिए ट्रैफिक पुलिस को कट्टे से रसीद काट कर देनी पड़ती थी, वहीं अब सीधे ट्रैफिक नियम तोड़ने वाले के बैंक खाते से पैसा कट जाएगा। प्रदेश के सभी जिलों मेें हाईटेक ट्रांजेक्शन पीओएस मशीन मुहैया कराने के लिए पुलिस मुख्यालय ने 1.43 करोड़ की राशि जारी कर दी है। जिलों में संचालित हो रहे करीब 900 से ज्यादा थानों में इस राशि से हाईटैक ट्रांजेक्शन पीओएस मशीनों का सुविधा और व्यवस्था के अनुसार क्रय होना भी शुरू हो गया है, लेकिन फिलहाल प्रदेश के 9 बड़े शहरों में इन मशीनों से चालानी कार्रवाई की जा रही है और इसके लिए पुलिसकर्मियों को दो माह पहले मशीन हैंडलिंग के लिए ट्रैनिंग भी दी जा चुकी है।

फोटो और लोकेशन के साथ कटेगा ई-चालान

ट्रांजेक्शन पीओएस मशीन इतनी हाईटेक है कि चालान कटने के तुरंत बाद ही नियम तोड़ने वाले का फोटो और जहां चालान काटा गया है वहां कि लोकेशन आ जाएगी।

समय और कागज की होगी बचत

कार्यवाही होने के बाद पुलिसकर्मियों को बैंक जाना पड़ता था और वहां खड़े होकर चालानी कार्यवाही के दौरान प्राप्त राशि को जमा करना होता था, लेकिन इस सुविधा के होने से चालान के दौरान मिली राशि सीधे बैंक में पहुंचेगी और रसीद के रूप में बर्बाद होने वाले कागज के साथ साथ पुलिसकर्मियों का बैंक में घंटों खड़े रहकर पैसे जमा कराने की झंझट से मुक्ति भी मिल जाएगी।

बहानेबाजी से निपटाएगा क्यूआर कोड

चालानी कार्रवाई में पैसे न होने या पर्स भूल जाने जैसे तमाम बहाने भी नहीं बनाए जा सकेंगे। पुलिस के पास ऐसे तमाम बहानों से निपटने के लिए इस मशीन में क्यूआर कोड और नेट बैंकिंग का भी आप्शन है। जिसमें मोबाइल में एप के जरिए तुरंत भुगतान कर ई-चालान किया जाएगा।