पूर्व मंत्री ने निगमायुक्त के चेंबर में गंदे पानी पर लगाई अधीनस्थों की चार घंटे क्लास

 15 Jun 2020 11:54 PM  2

ग्वालियर। उपचुनाव में जनता के सामने सवालों के जबाव देने से पहले राजनेताओं द्वारा हर हाल में हर मुद्दे पर तैयारी की जा रही है। सूत्रों की मानें तो इसी वजह से पूर्व मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने निगमायुक्त के चेंबर में मौजूद रहकर 4 घंटे से ज्यादा ग्वालियर विधानसभा क्षेत्र में गंदे पानी, अधूरे कार्यों में लेतलाली लेकर निगम अधिकारियों की जमकर क्लास लगाई। जहां अधीनस्थों पर नाराजगी-नरमी दिखाकर लोगों की समस्याओं को तत्काल हल करवाने का माहौल बनाने को कहा। सोमवार की दोपहर बाल भवन के मीटिंग हॉल में ग्वालियर विधानसभा क्षेत्र में पीएचई, जनकार्य, अमृत योजना सहित अन्य विभागीय कार्यों को देखने वाले जिम्मेदार वरिष्ठ व अधीनस्थ अधिकारियों के साथ बैठक बुलाई गई। लेकिन बैठक होने के पहले निगमायुक्त संदीप माकिन के चेंबर में ही अधीनस्थों को बुलाकर चर्चा की गई। जानकारों की मानें तो चुनावी तहलीज पर बैठे पूर्व मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने निगमायुक्त के सामने अधीनस्थ अधिकारियों के सामने हाथ जोड़कर कहा कि वार्ड स्तर पर हमारे कार्यों को पूर्व पार्षद अपना बताते है और हमारे अधिकारी चुप रहकर मौन स्वीकृति दे देते है। वे यह नहीं बता पाते है कि यह कार्य किसने करवाए है, ऐसे स्थिति गंभीर है और आप सभी को मेरे मंत्रीकाल में कभी भी परेशान करने व अनुचित दबाव बनाने कर गलत काम करवाने की कोशिश भी नहीं की गई है। बैठक के दौरान अधीक्षण यंत्री आरएलएस मौर्य, कार्यपालन यंत्री आरके शुक्ला, सीओ सुशील कटारे सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

गंदे पानी पर अनदेखी से सब इंजीनियरों पर भड़के 
ग्वालियर विधानसभा में अमृत योजना के कार्यों के एक साल पहले तैयार नक्शों में अधूरे कार्यों की भी समीक्षा की गई। जिसमें पाइप लाइनों के मिलान व अधूरे कार्यों के चलते गंदे पानी मिलने व गौसपुरा सहित अन्य स्थानों की शिकयतों पर पूर्व मंत्री के पारा चढ़ गया और उन्होंने निगमायुक्त के सामने ही पीएचई सब इंजीनियरों की फील्ड में न जाने पर भड़क बैठे। इसके बाद अधीक्षण यंत्री व कार्यपालन यंत्री स्तर के अधिकारियों ने भी फील्ड में जाने की हिदायत दी।