दिल्ली से संक्रमित होकर जबलपुर पहुंचा डीआरडीओ कर्मी 3 नए मरीज आए सामने

दिल्ली से संक्रमित होकर जबलपुर पहुंचा डीआरडीओ कर्मी 3 नए मरीज आए सामने

जबलपुर । मेडिकल कॉलेज की वायरोलॉजी लैब तथा आईसीएमआर से शुक्रवार को प्राप्त करीब 2 सौ रिपोर्ट्स में 3 नए पॉजिटिव मरीज सामने आए हैं। इनमें डीआरडीओ दिल्ली में कार्यरत एक कर्मचारी शामिल है, जो 17 जून को छुट्टी पर जबलपुर के सिहोरा तहसील पहुंचा था। संक्रमितों का आंकड़ा 329 पर पहुंच गया है। एक्टिव केस 54 हैं। सस्पेक्टेड लोगों की संख्या 155 है तथा 263 अब तक स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज किए जा चुके हैं। जानकारी के मुताबिक नए संक्रमितों में पाटन की वार्ड नं. 6 निवासी 64 वर्षीय महिला, भानतलैया प्रेमसागर रोड निवासी 21 वर्षीय युवक शामिल हैं। डीआरडीओ कर्मचारी सिहोरा तहसील के मोहसाम गांव का निवासी है। 38 वर्षीय डीआरडीओ कर्मी दिल्ली से संक्रमित होकर यहां पहुंचा है और जिला प्रशासन ने स्पष्ट किया है कि उक्त व्यक्ति को स्टेट पोर्टल पर जबलपुर के कोरोना संक्रमितों की संख्या में शामिल नहीं किया गया है। रात को 135 सैम्पल की रिपोर्ट्स और प्राप्त हुईं, जो सभी निगेटिव रहीं।

आज व कल नर्मदा तटों पर प्रवेश रहेगा पूर्णत: प्रतिबंधित

कलेक्टर भरत यादव ने मध्यप्रदेश पब्लिक हेल्थ एक्ट 1949 की धारा 70 के अधीन प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए हलहारिणी अमावस्या एवं सूर्यग्रहण के दिन 20 तथा 21 जून को नर्मदा के विभिन्न तटों पर आमजन का प्रवेश पूरी तरह प्रतिबंधित कर दिया है। कलेक्टर के मुताबिक ग्वारीघाट, उमाघाट, जिलहरी घाट, कालीघाट, तिलवारा घाट, लम्हेटाघाट, भेड़ाघाट तथा सरस्वती घाट आदि पर आम जन न तो प्रवेश पा सकेंगे, न ही एकत्रित हो सकेंगे और न ही स्नान कर सकेंगे। शनि मंदिर में भी प्रवेश पूर्णत प्रतिबंधित रहेगा। संबंधित अधिकारियों को कलेक्टर ने निर्देशित किया है कि वे लाऊड स्पीकर तथा अन्य प्रचार- प्रसार संसाधनों से लोगों तक इस आदेश का संदेश पहुंचाकर पालन सुनिश्चित करें। आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों के विरूद्ध आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की विहित धारा तथा भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के तहत कार्रवाई की जाएगी। संबंधित नर्मदा तटों के थाना प्रभारियों, एसडीएम तथा सीएसपी ने आदेश का पालन सुनिश्चित कराने व्यवस्था भी लगा दी है।

सुख सागर अस्पताल से वीडियो जारी करने वाले संक्रमित पर एफआईआर

कलेक्टर श्री यादव ने ब्रीफिंग में जानकारी दी कि सुखसागर अस्प्ताल में भरती एक संक्रमित मरीज द्वारा वहां से वीडियो जारी कर अव्यवस्थाओं संबंधी दुष्प्रचार किया है। कलेक्टर ने स्पष्ट किया कि सुखसागर अस्पताल में तमाम तरह की व्यवस्थाएं हैं और वीडियो में विदेश की किसी क्लिपिंग से मिक्सिंग कर यह हरकत की गई है। वीडियो में सभी जानकारियां झूठी हैंं और गलत अफवाह फैलाने के उद्देश्य से वीडियो वायरल किया गया है। संबंधित संक्रमित के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा दी गई है।