रिश्वतखोरी में पकड़ा गया गुर्गा, नायब तहसीलदार व पटवारी फरार

रिश्वतखोरी में पकड़ा गया गुर्गा, नायब तहसीलदार व पटवारी फरार

जबलपुर। नायब तहसीलदार और पटवारी द्वारा रिश्वत के 18 हजार रुपए लेने के लिए भेजे गए एक व्यक्ति को पाटन तहसीलदार कार्यालय के परिसर से पकड़ा है। पूछताछ में महेंद्र चढ़ार ने बताया कि उसे नायब तहसीलदार गौरव पांडे व पटवारी निशा चौधरी ने एक व्यक्ति से रुपए लेने भेजा है। टीम ने जैसे ही आसपास देखा तो पटवारी निशा चौधरी भागते हुई नजर आर्इं। लोकायुक्त एसपी अनिल विश्वकर्मा ने बताया कि पैतृक जमीन के बंटवारे को लेकर नायब तहसीलदार गौरव पांडे, पटवारी निशा चौधरी द्वारा अनिल पटैल से रिश्वत मांगी गई थी। लोकायुक्त टीआई मंजू किरण तिर्की ने बताया कि अनिल कुमार पटैल निवासी ग्राम रयाना तहसील पाटन की पैतृक जमीन के बंटवारे के लिए नायब तहसीलदार गौरव पांडे पाटन सर्किल कटंगी व पटवारी निशा चौधरी ने 20 हजार रुपए की मांग की थी। जिसकी शिकायत अनिल पटैल ने जबलपुर लोकायुक्त एसपी अनिल विश्वकर्मा को कुछ दिनोें पहले की थी। बुधवार दोपहर करीब साढे 12 बजे नायब तहसीलदार, पटवारी ने महेंद्र चढ़ार निवासी ग्राम बिस्वा को 18 हजार रुपए लेने के लिए तहसीलदार पाटन कार्यालय परिसर भेजा। यहां पर फरियादी ने जैसे ही रिश्वत के 18 हजार रुपए महेंद्र को दिए वैसे ही लोकायुक्त की टीम ने महेंद्र चढ़ार को दबोच लिया।

पटवारी-नायब तहसीलदार की तलाश में लोकायुक्त टीम

कार्रवाई के दौरान पटवारी निशा चौधरी भाग गर्इं जबकि नायब तहसीलदार गौरव पांडे तहसीलदार कार्यालय आए ही नहीं। लोकायुक्त टीम ने गौरव पांडे, निशा चौधरी, महेंद्र के खिलाफ अपराध कायम कर नायब तहसीलदार व पटवारी की तलाश शुरू कर दी है। कार्रवाई में डीएसपी लोकायुक्त जेपी वर्मा, टीआई मंजू किरण तिर्की, आरक्षक दिनेश दुबे, अमित गावड़े, शरद पाठक, आरक्षक चालक राकेश विश्वकर्मा, महिला आरक्षक लक्ष्मी रजक की अहम भूमिका रही।