खांसा या छींका तो फ्लूसेंस कर लेगा रिकॉर्ड

खांसा या छींका तो फ्लूसेंस कर लेगा रिकॉर्ड

लंदन। रिसर्चर्स ने एक ऐसी डिवाइस बनाई है जो सामान्य आवाजों में से खांसी या छींक की आवाज को पहचान सकती है। फ्लूसेंस नाम की यह डिवाइस एक आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस सिस्टम से युक्त है जो भीड़ में खांसी या छींक की आवाज को रिकॉर्ड कर यह अनुमान लगा सकती है कि किसी सार्वजनिक स्थान पर खड़े लोगों में से कितने लोग श्वसन संबंधी बीमारियों से पीड़ित हैं। इन नई तकनीक का चार क्लिनिक्स के वेटिंग रूम्स में परीक्षण किया गया, जिसमें पाया गया कि यह बीमारों की सटीक संख्या पता लगाने में सक्षम है। सचेत करेगी डिवाइस डिवाइस के को-क्रिएटर तौहीदुर रहमान के अनुसार इसे बनाने का उद्देश्य किसी व्यक्ति में बीमारी का लक्षण पहचानना नहीं है बल्कि इसकी सहायता से किसी भीड़ में मौजूद लोगों के स्वास्थ्य व्यवहार का आकलन किया जा सकता है। यह डिवाइस असामान्य होने पर सचेत करेगी। परीक्षण में मिली सफलता दिसंबर 2018 से जुलाई 2019 के बीच फ्लूसेंस नाम की इस डिवाइस का परीक्षण किया गया। इस दौरान 2.10 करोड़ से ज्यादा लोगों के खांसने, छींकने की आवाजों के अलावा तीन लाख 50 हजार लोगों की थर्मल इमेजेस भी ली गर्इं। इससे लोगों में मौसमी μलू की सटीक भविष्यवाणी में सफलता मिली।

शरीर का तापमान भी पता लगा सकती है

मैसाचुसेटस एमर्स्ट यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स के द्वारा बनाई गई μलूसेंस नाम की इस डिवाइस का लगातार आठ माह तक यूनिवर्सिटी के चार अस्पतालों के वेटिंग रूम में परीक्षण किया गया। इस परीक्षण के दौरान इस डिवाइस के नतीजे पूरी तरह सटीक पाए गए हैं। खास बात यह है कि डिवाइस थर्मल कैमरे से भी युक्त है, जिससे किसी व्यक्ति के शरीर के तापमान यानी बुखार का भी पता लगा सकती है।