विद्यालयों में चल रहे किचिन गार्डन, बच्चों को मिल रही है शुद्ध एवं ताजी सब्जियां

विद्यालयों में चल रहे किचिन गार्डन, बच्चों को मिल रही है शुद्ध एवं ताजी सब्जियां

ग्वालियर। जिले के शासकीय विद्यालयों के परिसरों में संचालित किचिन गार्डन के माध्यम से मध्यान्ह भोजन में बच्चों के लिए ताजी एवं पोषक तत्वों से भरपूर जैविक सब्जियों का उपयोग किया जा रहा है। इन चिकिन गार्डनों से बच्चे प्रेरणा लेकर अपने घरों के खुले परिसर में अपने अभिभावकों एवं परिजनों को किचिन गार्डन विकसित करने की सलाह दे रहे हैं। ये किचिन गार्डन स्व-सहायता समूहों की महिला सदस्यों द्वारा उद्यानिकी विभाग के मार्गदर्शन और शिक्षकों की देखरेख में संचालित हो रहे हैं। ग्राम बेरजा का किचिन गार्डन लोगों के लिए नजीर बन गया है। ग्वालियर जिले में जैविक खेती को बढ़ावा देने हेतु जिले में संचालित शासकीय स्कूलों में किचिन गार्डन विकसित किए गए हैं। इन किचिन गार्डनों में गोबर की कम्पोस्ट (खाद) एवं वर्मी कल्चर से निर्मित खाद का उपयोग कर सब्जी उत्पादन किया जा रहा है। सब्जियां बच्चों को मध्यान्ह भोजन के रूप में खिलाई जा रही हैं। जैविक सब्जियों के खाने से बच्चों को सभी पोषक तत्व प्राप्त हो रहे हैं। इनके उपयोग से शरीर पर विपरीत प्रभाव भी नहीं पड़ता है। कलेक्टर अनुराग चौधरी एवं जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी शिवम वर्मा की पहल पर जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में चिन्हित 129 विद्यालयों के परिसरों में महिला स्वसहा यता समूहों के माध्यम से एवं विद्यालयों के शिक्षकों की देखरेख में किचिन गार्डन विकसित करने की अनूठी पहल की गई है।

बेरजा बना नजीर, बच्चों को भा रहीं हैं सब्जिया : इस पहल के तहत माध्यमिक विद्यालय बेरजा के किचिन गार्डन में जैविक सब्जियों के रूप में उत्पादित बैंगन, आलू, मैथी, पालक, मिर्ची, टमाटर, धनिया जैसी विभिन्न सब्जियों का उपयोग छात्र-छात्राओं द्वारा मध्यान्ह भोजन में किया जा रहा है। किचिन गार्डन से प्राप्त सब्जियों से स्व-सहायता समूहों को हरी एवं ताजी सब्जियां खरीदने बाहर नहीं जाना पड़ता है। जिससे समूह को राशि के साथ-साथ समय की भी बचत हो रही है। बेरजा के माध्यमिक विद्यालय के छात्र-छात्राओं ने बताया कि विद्यालय में विकसित किचिन गार्डन से पैदा होने वाली सब्जियां काफी स्वादिष्ट होती हैं। ये छात्र-छात्राएं किचिन गार्डन की तर्ज पर अपने घरों में खुली जमीन में सब्जियों के पौधे लगाए जाने हेतु अपने परिजनों को भी सलाह देंगे।