मजदूर कार्ड अमान्य नए बनवाने ननि मुख्यालय सहित सभी जोन व एमपी आॅन लाइन में लगी भीड़

 17 Jun 2020 11:55 PM  2

जबलपुर । मप्र की शिवराज सरकार ने अपने द्वारा ही बनवाए गए मजदूर कार्ड को अमान्य कर दिया है,जिसके कारण मजदूरों को शासकीय योजना का लाभ लेने में दिक्कतें हो रही हैं। यहां तक कि वे जब बुजुर्ग पेंशन लेने पहुंच रहे हैं और पेंशन न आने की शिकायत करते हैं तो काउंटर पर कह दिया जाता है कि नए मजदूर कार्ड बनवाकर आओ। हालाकि वर्तमान में मजदूर पंजीयन कार्य जमकर चल रहा है इसकी तिथि 25 जून तक निर्धारित की गई है। ननि मुख्यालय,सभी 16 संभागीय कार्यालयों से लेकर एमपी आॅन लाइन केन्द्रों में मजदूर कार्ड बनाए जा रहे हैं जिनमें भारी संख्या में लोग कार्ड बनवाने पहुंच रहे हैं। यहां पर जो समस्या आ रही है उसमें सर्वर डाउन होने की समस्या सबसे बड़ी है। शासन ने पूर्व में कहा था कि प्रवासी मजदूरों के लिए ही पंजीयन कार्य किया जाएगा बाद में स्थानीय पथ विक्रेताओं के कार्ड भी बनाए जाने लगे इसमें मजदूर कार्ड पूर्व में बनवा चुके लोगों को एक बार फिर कवायद करनी पड़ रही है।

अधिक वसूली की शिकायत

एमपी आॅन लाइन केन्द्र मजदूर कार्ड बनवाने के लिए 50 रुपए ले रहे हैं। हालाकि निगमायुक्त अनूप कुमार सिंह ने गत दिवस इस बारे में उच्च स्तर पर शिकायत करते हुए सभी आॅन लाइन केन्द्रों को चेतावनीदी है कि यदि पंजीयन कार्य के बदले अधिक राशि ली गई तो उनके लाइसेंस केंसिल करवा देंगे। इसके बावजूद अधिक राशि की वसूली जारी है।