130 वर्ष बाद भगवान जगन्नाथ नहीं निकले यात्रा पर

 23 Jun 2020 11:57 PM  5

जबलपुर । जिले में कोरोना संकट के चलते धार्मिक आयोजनों पर भी लगभग विराम सा लगा हुआ है। शहर में बात्री साहू समाज द्वारा 130 साल से निकाली जा रही भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा भी इस वर्ष नहीं निकली। इस बार भक्तों के दर्शनार्थ साहू धर्मशाला गढ़ाफाटक में बनाए गए अस्थाई मंदिर में भगवान 13 दिन के लिए विराजमान किए गए है। बताया जाता है कि बात्री साहू समाज द्वारा करीब 130 वर्ष से भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा निकाली जा रही है, आज मंगलवार के दिन निकलने वाली रथयात्रा का वर्ष भर इंतजार रहता है,लेकिन इस साल कोरोना संकट को देखते हुए यात्रा नहीं निकाली गई। समाज ने लोगों की आस्था का ध्यान रखते हुए भगवान जगन्नाथ के दर्शनार्थ जगदीश मंदिर में अस्थाई मंदिर बनाया है,जहां पर भगवान जगन्नाथ, बलभद्र व सुभद्रा को विराजमान किया गया है।

सुबह शाम कर सकते हैं दर्शन

जहां पर प्रतिदिन सुबह 8 से 10 व शाम 6 से 8.30 तक दर्शन किए जा सकेगें। भगवान जगन्नाथ स्वामी रथयात्रा महोत्सव पर मंगलवार को वात्री साहू समाज संचालित श्रीजगदीश स्वामी कर्मा माई शंकर भगवान मंदिर ट्रस्ट की ओर से साहू धर्मशालाए गढ़ा फाटक में बनाए गए अस्थायी मंदिर में दोपहर 12 बजे भगवान का पूजन अर्चन कर विराजमान किया गया है। साहू समाज ट्रस्ट के मुकेश साहू ने बताया कि भगवान श्रीकृष्ण का नीलमाधव अवतार श्रीजगन्नाथ स्वामी के रूप में अपने भाई बलभद्र और सुभद्रा के साथ प्रतिवर्ष आषाढ़ शुक्ल की द्वितीया तिथि को रथ में सवार होकर जनता को दर्शन देने निकलते हैं। सदस्य श्रीकान्त साहू ने बताया कि समाज के वरिष्ठ जनों की सहमति एवं प्रशासन के निदेर्शानुसार रथयात्रा के पूर्व ही मंदिर को पूरी तरह सेनेटाइज कराते हुए सफाई, साजस ज्जा की गई है। ट्रस्ट के निर्णय अनुसार ही लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराते हुए मास्क लगाने के बाद दर्शन कराए जा रहे हैं।