प्रवासी मजदूरों को मजदूरी व अन्य कार्य दिलाए जाएंगे: शिवराज सिंह

प्रवासी मजदूरों को मजदूरी व अन्य कार्य दिलाए जाएंगे: शिवराज सिंह

 भोपाल ।   मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि सभी प्रवासी मजदूरों का पंजीयन किया जाए, जिससे उनके जॉब कार्ड बनवाए जाकर मनरेगा में कार्य दिया जा सके। पंजीयन में इस बात का स्पष्ट उल्लेख किया जाए कि मजदूर कुशल है, अकुशल है, अथवा अद्धर्कुशल है। उनकी कुशलता के आधार पर उनको विभिन्न उद्योगों एवं अन्य कार्यों में नियोजित किया जाएगा। मुख्यमंत्री बुधवार को मंत्रालय में वीसी के जरिए कोरोना की स्थिति की समीक्षा कर रहे थे। खरगौन जिले की समीक्षा में बताया गया कि पहले खरगौन जिला रेड जोन में था, अब ग्रीन जोन में आ गया है। जिले में कोरोना के 114 मरीज थे, जिनमें से 87 डिस्चार्ज होकर घर जा चुके हैं। बताया गया कि 22 मई को मुख्यमंत्री वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश के सरपंचों से संवाद करेंगे। एसीएस मनोज श्रीवास्तव ने बताया कि इस मौके पर श्रमिक भी उपस्थित रहेंगे, जिन्हें मनरेगा के लिए जॉब कार्ड का वितरण किया जाएगा। 

4. 63 लाख मजदूर लौटे

प्रवासी मजदूरों की वापसी पर एसीएस आईसीपी केशरी ने बताया कि ट्रेन एवं बसों से कुल 4 लाख 63 हजार मप्र लौटे हैं। 50 हजार मजदूरों की वापसी संभावित है। इनमें से 1 लाख 35 हजार मजदूर ट्रेनों से तथा 3 लाख 28 हजार बसों से आए हैं। आज तक कुल 107 ट्रेनें मजदूरों को लेकर आई हैं तथा अभी तक 125 ट्रेनों की मांग रेलवे को भिजवाई गई है। प्रदेश की सीमा पर आ रहे अन्य प्रदेशों के श्रमिकों को राज्य की सीमा तक पहुंचाने के लिए 850 बसें लगाई गई हैं।