अर्थव्यवस्था में जान फूंकने और रोजगार बढ़ाने मोदी ने तय किया 100 दिनों का एजेंडा

अर्थव्यवस्था में जान फूंकने और रोजगार बढ़ाने मोदी ने तय किया 100 दिनों का एजेंडा

नई दिल्ली। मोदी बजट से पहले 100 दिन के एजेंडे को अंतिम रूप देने में जुटे हैं। मंगलवार को पीएम ने वित्त और दूसरे अहम मंत्रालयों के टॉप अधिकारियों के साथ बैठक की। इस दौरान सुस्त पड़ती अर्थव्यवस्था में जान फंूकने और रोजगार सृजन को ध्यान में रखते हुए सरकार के 100 दिन के एजेंडे को अंतिम रूप दिया। पीएम आवास पर हुई बैठक में वित्त मंत्रालय के सभी पांच सचिवों के अलावा कुछ अन्य मंत्रालयों के अधिकारी और नीति आयोग के अफसर भी मौजूद थे। बैठक में कम से कम समय में देश को 350 लाख करोड़ रुपए की अर्थव्यवस्था बनाने के लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए सरकार के 5 साल के दृष्टिकोण को स्पष्ट किया गया। 

जीडीपी की वृद्धि पर भी हुई चर्चा

प्रधानमंत्री मोदी ने लगभग सभी विभागों के साथ सुधारों की रूपरेखा पर विचार किया जिससे देश में कारोबार करने की व्यवस्थाएं और सुगम की जा सकें तथा अर्थव्यवस्था को तेजी से आगे बढ़ाया जा सके। सूत्रों ने कहा कि बैठक में राजस्व बढ़ाने तथा सुधारों के जरिए सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि की रμतार तेज करने के उपायों पर भी चर्चा हुई।