अंचल में मानसून की दस्तक, यलो वार्निंग जारी, कई जगह तेज बारिश की संभावना

 24 Jun 2020 11:57 PM  2

ग्वालियर। ग्वालियर-चंबल संभाग में दक्षिण-पश्चिम मानसून ने मंगलवार को दस्तक दे दी है, लेकिन जब इसकी औपचारिक घोषणा बुधवार को भोपाल स्थित मौसम कार्यालय ने जारी कि, उसके पालन में यहां के मौसम कार्यालय ने ग्वालियर-चंबल संभाग में मानसून आने की पुष्टि की है। मौसम विभाग के अनुसार ग्वालियर-चंबल संभाग के ऊपर से मानसून की ट्रफ लाइन गुजर रही है। बंगाल की खाड़ी व अरब सागर में चक्रवात बना हुआ है, जिससे समुद्र से पर्याप्त मात्रा में नमी आ रही है। इस ट्रफ लाइन की वजह से ग्वालियर-चंबल संभाग में कहीं-कहीं बुधवार की सुबह वर्षा हुई, लेकिन इसका बावजूद सारा सहारा केवल बूंदाबांदी तक ही सीमित रह गया। जिससे पूरे दिन लोग उमस से परेशान रहे। हालांकि दिन भर आसमान में उमड़ते-घुमड़ते रहे, लेकिन वर्षा नहीं हो सकी। बुधवार को शहर स्थित न्यू कलेक्ट्रेट क्षेत्र में सुबह झमाझम बारिश हुई। इससे वहां के लोगों को तो भीषण गर्मी से निजात मिल गई, लेकिन बाकी शहर में सुबह से शाम केवल बादल छाए रहने व दोपहर में कुछ देर के लिए तेज धूप निकलने से लोग उमस से परेशान रहे। हालांकि वातावरण में नमी की मात्रा बढ़ जाने से पंखे ठंडी हवा प्रदान करते रहे, जिससे लोगों को राहत मिलती रही। बुधवार को अधिकतम व न्यूनतम तापमान सामान्य से क्रमश: 5.6 व 2.4 डिग्री सेल्सियस कम रहा। मौसम विभाग ने अगले 48 घंटों के दौरान ग्वालियर-चंबल संभाग में अनेक स्थानों पर ग्वालियर, दतिया, शिवपुरी, गुना जिलों में कहीं-कहीं भारी वर्षा की संभावना व्यक्त की है। हालांकि मौसम विभाग ने मानसून की तारीखों में बदलाव किया है। इस बार मानसून आगमन की सामान्य तारीख 25 से 27 जून निर्धारित की है। इससे पहले 18 से 20 जून निर्धारित थी। 25 जून तक ग्वालियर में मानसून सक्रिय हो जाएगा। 2013 के बाद ऐसा हो रहा है जब मानसून समय पर आ रहा है। इससे पहले 2013 में 11 जून को मानसून सक्रिय हुआ था। उसके बाद से मानसून हमेशा लेट हो रहा है। मौसम विभाग ने बुधवार को अधिकतम तापमान 33.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया, जो सामान्य से 5.6 डिग्री सेल्सियस कम रहा व न्यूनतम तापमान 25.9 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड हुआ, जो सामान्य से 2.4 डिग्री सेल्सियस कम रहा।