राष्ट्रीकृत बैंक दूसरे दिन भी रहे बंद, बैंक कर्मियों ने कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

Nationalized banks remain closed for the second day, bank workers submitted memorandum to the collector

राष्ट्रीकृत बैंक दूसरे दिन भी रहे बंद, बैंक कर्मियों ने कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन

ग्वालियर। राष्ट्रीयकृत बैंक की हड़ताल के दूसरे दिन शनिवार को हड़ताल का जिले में व्यापक असर देखा गया। राष्ट्रीयकृत, ग्रामीण बैंक शाखाओं में ताले लटके रहे। दूसरे उपभोक्ताओं को लेन-देन के लिए काफी परेशानी का सामना करना पड़ा, जिन एटीएम केस था वहां भीड़ रही तो कुछ एटीएम दोपहर से ही पैसे निकलना बंद हो गया। सरकार की नीतियों से नाराज 17 बैंकों की कर्मचारी को दो दिनों की हड़ताल से 185 करोड़ रुपये के लेनदेन प्रभावित हुआ। जिन ग्राहकों ने एक दिन पहले ही चेक लगाए उनका भी भुगतान नहीं हो सका। वहीं दूसरी ओर युनाइटेड फोरम आॅफ बैंक यूनियन की ग्वालियर यूनिट के साथियों ने बैंक आॅफ इंडिया की फूल बाग स्थित शाखा ग्वालियर पर एकत्रित हो कर केंद्र सरकार एवं इंडियन बैंक एसोसिएशन के अड़ियल रुख के विरूद्ध अपना विरोध प्रकट किया। इसके उपरांत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नाम कलेक्टर अनुराग चौधरी को ज्ञापन सौंपा। इस मौके पर यूनाइटेड फोरम आॅफ बैंक यूनियन ग्वालियर के अध्यक्ष अवधेश अग्रवाल , वीरेंद्र श्रीवास्तव, अतुल प्रधान, हेमंत गोस्वामी,रहीम खान,हर्ष अरोरा, भरत शर्मा, अजय देवले, गोवर्धन शर्मा,नवल शुक्ला, रामकुमार शुक्ला, आर सी धनकर, अतुल प्रधान, हिमांशु सारस्वत , नितिन वाटवानी सहित काफी संख्या में बैंक कर्मचारी मौजूद रहे। हड़ताल की वजज से उपभोक्ताओं जो परेशानी हो रही है उसका समाधान सोमवार को ही हो पाएगा क्योंकि रविवार को भी छुट्टी के चलते बैंक बंद रहेगी।

बाड़े के एटीएम पर लगी रही भीड़ इधर आज सुबह से ही पैसे निकालने वालों की भीड़ महाराज बाड़ा पर सबसे ज्यादा लोग जिनमें महिलाएं भी शामिल हैं अपनी बारी का इंतजार करती रहीं। इधर शिन्दे की छावनी, रामदास घाटी, आनंद नगर,विनय नगर और मुरार समेत गोला का मंदिर के कई एटीएमों पर कुछ ही घंटे में कैश समाप्त होने की सूचना मिली। कई लोग पैसे निकालने रेलवे स्टेशन के एसबीआई के एटीएम पर देर रात तक पैसे निकालते देखे गए।