रास में अब नहीं रुकेगा कोई भी बिल, 115 सीटों के साथ एनडीए होगी मजबूत

रास में अब नहीं रुकेगा कोई भी बिल, 115 सीटों के साथ एनडीए होगी मजबूत

नई दिल्ली। राज्यसभा में खाली हुई 6 सीटों पर चुनावी प्रक्रिया 5 जुलाई तक पूरी हो जाएगी। इसके बाद सदन में भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाली एनडीए को साफ तौर पर बढ़त मिलती देखी जा सकती है। तेलंगाना की तेलुगू देशम पार्टी के चार और इंडियन नेशनल लोकदल के एक सांसद के बीजेपी में शामिल होने के बाद एनडीए का पलड़ा भारी होता दिख रहा है। अभी तक भारतीय जनता पार्टी को सदन में कोई भी बिल पास कराने के लिए बहुमत की आवश्यकता होती थी लेकिन बिना बहुमत के ऐसा करना उसके लिए बहुत मुश्किल होता था। लेकिन धीरे-धीरे परिस्थितियां भाजपा के पक्ष में जाती दिख रही हैं।

5 जुलाई के बाद एनडीए के सिर्फ 6 सांसद रह जाएंगे कम:

पिछले रविवार तक राज्यसभा के 235 सदस्यों में से एनडीए के 111 थे। अभी राज्यसभा की 10 सीटें खाली हैं। इनमें से एनडीए के 4 सांसदों के 5 जुलाई को होने वाले राज्यसभा चुनावों में चुनकर आने की संभावना है। इनके चुनकर आने के साथ ही राज्यसभा में एनडीए सदस्यों की संख्या बढ़कर 115 हो जाएगी। जिसके बाद एनडीए के सदस्यों की संख्या बहुमत से सिर्फ 6 कम रह जाएगी। राज्यसभा में कुल 245 सांसद होते हैं। ऐसे में बहुमत 123 पर बनता है।

गुजरात में खाली हुई हैं अमित शाह और स्मृति ईरानी की सीटें:

5 जुलाई को राज्यसभा की 6 सीटों पर चुनाव होना है। इसमें से एक सीट भाजपा की सहयोगी लोजपा को जानी है। इसके अलावा गुजरात में भाजपा की दो सीटें खाली हुईं हैं, जिनपर प्रत्याशियों को चुना जाना है।

जम्मू-कश्मीर आरक्षण संशोधन बिल सदन में पेश:

गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को राज्यसभा में दो बिल पेश किए। उन्होंने जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रपति शासन की अवधि 6 माह बढ़ाए जाने और आरक्षण संशोधन विधेयक सदन में रखा। इस बीच ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस ने दोनों विधेयकों को समर्थन देने का ऐलान किया। जम्मू में जून 2018 के बाद 6 महीने राज्यपाल शासन था। 21 नवंबर को राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने विधानसभा भंग कर दी थी।

पासवान ने राज्यसभा की सदस्यता की शपथ ली:

राज्यसभा के लिए पिछले सप्ताह बिहार से निर्विरोध निर्वाचित हुए केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने सोमवार को उच्च सदन की सदस्यता की शपथ ली। बीजेडी के समर्थन से उच्च सदन के लिए ओडिशा से चुने गए बीजेपी के अश्विनी वैष्णव ने भी राज्यसभा की सदस्यता की शपथ ली। लोक जनशक्ति पार्टी नेता रामविलास पासवान शुक्रवार को निर्विरोध निर्वाचित हुए।