होटल-रेस्टॉरेंट की प्लेट पर कोरोना टैक्स नहीं फिर भी चमक गायब

 10 Jun 2020 09:40 PM  2

ग्वालियर। शहर को 23 मार्च से लॉक डाउन के बाद 8 जून को अनलॉक के बाद भी होटल-रेस्टॉरेंट की चमक गायब हो गई है। पार्टियां, बुकिंग कॉन्फ्रेंस सब गायब हैं। हर माह महिलाओं की किटी पार्टी से गुलजार रहने वाले रेस्टॉरेंट की चमक और बच्चों की बर्थ-डे पार्टियों से होने वाली चहक-महक भी गायब दिख रही है। अभी तक होटल-रेस्टॉरेंट में खाने की प्लेट पर कोरोना टैक्स भी नहीं लगाया है। होटल सैन्ट्रल पार्क के प्रबंधक प्रीतम खन्ना कहते हैं कि होटल के डायनिंग हॉल में लंच या डिनर के लिए खाने की प्लेट पर लोकडाउन से पहले वाली ही रेट रखी है। किसी भी प्रकार की दाम में बढ़ोत्तरी नहीं की है। होटल के कर्मचारियों का कहना है कि रूम बुकिंग के लिए हम तैयार हैं लेकिन जब तक ट्रेन और प्लेन से लोगों का आना-जाना शुरू नहीं होगा तब तक सभी होटल्स की एक जैसी स्थिति रहने वाली है। स्टेशन परिसर में स्थित होटल एंबिसियंश की हालत ज्यादा खराब है। क्योंकि यह होटल पूरी तरह से ट्रेन से आने वाले सैलानियों के भरोसे चल रहा था। इधर सिर्फ होम डिलेवरी जयेन्द्र गंज स्थित वोल्गा रेस्टॉरेंट अपने डायनिंग हॉल में खाने की व्यवस्था से फिलहाल हाथ जोड़ लिए हैं। प्रबंधकों ने बाहर गेट पर होम डिलेवरी का बोर्ड लगा रखा है। अंदर प्रवेश सिर्फ रेस्टॉरेंट प्रबंधकों को ही दिया जा रहा है। खान-पान की रेट फिलहाल यथावत है।

रेस्टॉरेंट की चमक-चहक गायब 
शहर का प्रसिद्ध रेस्टॉरेंट क्वालिटी महिलाओं की किटी पार्टी, बच्चों की बर्थडे पार्टी और कान्फ्रेंस अटेंड करने आने वाले भी लंच या डिनर करने यहीं पहुंचते रहे हैं । अब चमक और चहक-महक सबकुछ गायब है। बुधवार को जब रेस्टॉरेंट का जायजा लिया तो अपरान्ह तीन बजे करीब वहां के कर्मचारी बैठक व्यवस्था बनाने में जुटे थे। नाम न छापने की शर्त पर बताया कि हमने एक टेबल पर सिंगल, डबल जैसी व्यवस्था अलग-अलग की है। किचिन का सैनेटाइजेशन और बाहर गेट पर स्क्रीनिंग सब करा रहे हैं लेकिन ग्राहकों के बिना सबकुछ सूना है।