पीएम आवास की किश्त का इंतजार कर रही वृद्धा ने तोड़ा दम

 15 Jun 2020 07:42 AM  3

जबलपुर । नगर निगम की असंवेदनशीलता का एक और उदाहरण रविवार को सामने आया है जबकि दो साल से विस्थापित बस्ती तिलहरी में मकान बनाने के लिए पहली किश्त की राह देख रही एक वृद्धा ने दम तोड़ दिया है। लोगों ने बताया कि इस वृद्धा के परिवार में कोई नहीं है,उसका अंतिम संस्कार भी चंदे से बस्ती वाले ही करवाएंगे। जानकारी के अनुसार चौहानी में बरसों से रहने वाली बादाम बाई का जब मकान टूटा तो उसे भी बाकी विस्थापितों के साथ तिलहरी में बसाने का वादा कर पहुंचा दिया गया था जहां उसे मकान बनाने की जगह बता दी गई थी और प्लॉट का आवंटन कर दिया गया था। वहीं उसे पट्टा भी आवंटित कर दिया गया था और पीएम आवास योजना के घटक के तहत ढाई लाख रुपए की सहायता के लिए नाम भी सूची में शामिल कर लिया गया था। एक-एक कर सभी को किश्तें मिल गईं ज्यादातर को तो 2 लाख रुपए तक मिल चुके हैं मगर बादाम बाई की पहली किश्त तक नहीं आई। उसके घर में कोई न होने के कारण वह नगर निगम के चक्कर भी नहीं लगा पाई। अपने प्लाट पर बन ाई झोंपड़ी में ही उसके दिन कट रहे थे। उसकी आयु करीब 65 वर्ष बताई जा रही है। विगत कुछ दिनों से वह अस्वस्थ थी। पहली किश्त के इंतजार में रविवार को उसकी अंतिम सांस भी चली गई।