पुलिस ने महज 36 घंटे में खोज निकाली अपहृत किशोरी, आरोपी गिरफ्तार

kidnapped

पुलिस ने महज 36 घंटे में खोज निकाली अपहृत किशोरी, आरोपी गिरफ्तार

ग्वालियर। बहोड़ापुर थाना इलाके से दो दिन पूर्व कट्टे की नोंक पर अपहरण करके ले जाई गई किशोरी व आरोपी को पुलिस ने महज 36 घंटों के भीतर ढूंढ़ निकाला है, हालांकि किशोरी का कहना है कि वह अपनी मर्जी से गई थी, तथा हमने मंदिर में शादी भी कर ली है। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर मामले की विवेचना शुरू कर दी है। उल्लेखनीय है कि सागर ताल स्थित सरकारी मल्टी निवासी रामानुज शर्मा ने बीते शिकायत दर्ज करवाइ थी, कि रविवार-सोमवार की दरम्यानी रात मल्टी में रहने वाले ट्रक ड्राइवर दीपक तोमर का 17 वर्षीय पुत्र उसके घर में घुसकर जबरन उसकी बेटी का अपहरण करके एक्टिवा पर बैठाकर ले गया, जिसने उसे व उसके परिवार को कमरे में बंद कर दिया। घटना की सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने आरोपी के खिलाफ अपहरण का प्रकरण दर्ज कर किशोरी व उसकी तलाश शुरू कर दी थी। इसी बीच बहोड़ापुर थाना प्रभारी दिनेश राजपूत को मुखबिर के जरिए सूचना प्राप्त हुई, कि आरोपी व किशोरी थाटीपुर स्थित चौहान प्याऊ के पास छुपकर रह रहे हैं, जिस पर श्री राजपूत ने अपनी टीम के साथ बताए गए स्थान पर दबिश देकर वहां से किशोरी को बरामद करते हुए आरोपी को दबोच लिया। थाने लाकर की गई पूछताछ में किशोरी ने पुलिस को बताया है, कि आरोपी तथा उसका प्रेम प्रसंग चल रहा था, जिसके चलते वह अपनी मर्जी से गई थी, तथा घर से जाने के बाद उन्होंने मंदिर में विवाह भी कर लिया है। चूंकि वह नाबालिग है, इसलिए पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार करने के साथ ही बाल कल्याण समिति के निर्देश पर किशोरी को फिलहाल शासकीय गृह में रखवा दिया गया है। घर से अपहरण कर ले जाई गई किशोरी को बरामद करने के साथ ही आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। किशोरी ने अपनी मर्जी से जाना बताया है, हमने मामले की जानकारी सीडब्ल्यूसी को देकर किशोरी को शासकीय गृह में पहुंचा दिया है।

दो दिन पूर्व गायब हुई किशोरी जयपुर में मिली
उधर मुरार थाना इलाके में रहने वाली एक किशोरी बीती 31 मई को अचानक गायब हो गई थी। परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने अज्ञात आरोपी के खिलाफ अपहरण का प्रकरण दर्ज कर किशोरी की तलाश शुरू कर दी थी, जिसे पुलिस जयपुर से बरामद करके ले आई है। आर्य नगर में रहने वाले सोबरन सिंह जाटव ने दो दिन पूर्व मुरार थाने में जानकारी दी थी, कि उसकी 16 वर्षीय पुत्री बीती 31 मई की सुबह आठ बजे के लगभग घर से कोई सामान लेने के लिए गई थी, जिसके बाद वह वापस लौटकर नहीं आई। चूंकि मामला नाबालिग का था, इसलिए पुलिस ने अज्ञात आरोपी के खिलाफ अपहरण का प्रकरण दर्ज कर किशोरी की तलाश शुरू कर दी थी। इसी बीच पुलिस को ज्ञात हुआ कि किशोरी जयपुर में अपने रिश्तेदारों के यहां पर है, इस सूचना पर विवेचना अधिकारी एसआई हेमंत पाटिल ने महिला आरक्षक के साथ जयपुर पहुंचकर उसे दस्त्याब कर लिया। पूछताछ में किशोरी ने अपनी मर्जी से जाना बताया है, जिससे पुलिस ने बाल कल्याण समिति के निर्देश पर किशोरी को फिलहाल शासकीय गृह पहुंचा दिया है।